Tuesday , June 18 2024

कैनेडा में खालिस्तान समर्थकों को चेतावनी, हिंदूओं को लेकर सरकार ने जताई चिंता

खबर खास, चंडीगढ़:

कैनेडा के एक मंत्री ने चेतावनी दी है कि भारत की पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की हत्या को दर्शाने वाले पोस्टर वैंकूवर में खालिस्तान समर्थकों ने लगाए हैं। इससे हिंसा को बढ़ावा देना कभी भी स्वीकार्य नहीं किया जाएगा। एक भारतीय मूल के कनाडाई सांसद ने भी इस मुद्दे पर चिंता जाहिर की है। उन्होंने भी कहा कि ऐसा करके खालिस्तान समर्थक हिंदू-कनाडाई लोगों में हिंसा का डर पैदा करने की कोशिश कर रहे हैं।

सार्वजनिक सुरक्षा, लोकतांत्रिक संस्थानों और अंतर-सरकारी मामलों के मंत्री डोमिनिक ए लेब्लांक ने एक्स पर कहा है कि इस सप्ताह वैंकूवर में भारतीय प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की हत्या को दर्शाने वाली तस्वीरें सामने आईं। उन्होंने कहा कि कैनेडा में हिंसा को बढ़ावा देना कभी भी स्वीकार्य नहीं है। कैनेडा के हाउस ऑफ कॉमन्स में नेपियन के चुनावी जिले का प्रतिनिधित्व करने वाले इंडो-कैनेडियन सांसद चंद्र आर्य ने कहा है कि वैंकूवर में खालिस्तान समर्थक हिंदू भारतीय प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के शरीर पर गोलियों के निशान और उनके अंगरक्षकों द्वारा बंदूकें थामे पोस्टर लेकर हिंदू-कनाडाई लोगों में हिंसा का डर पैदा करने की कोशिश कर रहे हैं।

प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो की पार्टी के सांसद आर्य ने कहा कि यह धमकियों का सिलसिला है, जिसमें कुछ साल पहले ब्रैम्पटन में इसी तरह की झांकी और कुछ महीने पहले सिख फॉर जस्टिस के (गुरपतवंत सिंह) पन्नून ने हिंदुओं से भारत वापस जाने के लिए कहा था। पन्नून खालिस्तान आंदोलन के मुख्य नेताओं में से एक हैं और सिख फॉर जस्टिस (एसएफजे) के कानूनी सलाहकार और प्रवक्ता हैं, जिसका उद्देश्य एक अलग सिख राज्य के विचार को बढ़ावा देना है। आर्य ने कनाडा में कानून प्रवर्तन एजेंसियों से तत्काल कार्रवाई करने का आह्वान किया।