Saturday , June 15 2024

LOKSABHA ELECTION : मतदान के 48 घंटे पहले सख्ती, हाईटैक कैमरों की शराब माफिया पर नजर

खबर खास, चंडीगढ़:
पंजाब के 13 लोकसभा क्षेत्रों में चुनाव शांतिपूर्ण तरीके से करवाने के लिए चुनव आयोग और स्थानीय प्रशासन ने कमर कस ली है। एक ओर आज शाम चुनाव प्रचार थम रहा है वहीं किसी भी गैरकानूनी हरकत पर नजर रखने के लिए प्रशासन भी चौकस है। जानकारी के मुताबिक सभी लोकसभा क्षेत्रों में शराब और कैश लेजाने को लेकर सख्ती बरती जा रही है। इसके अलावा 16 टीमें विशेष निगरानी रख रही हैं और 8 टीमों की कैश पर नजर रखने के लिए तैनात किया गया है। एसएसपी को नोडल अधिकारी नियुक्त किया गया है।

नाकों पर लगाए गए हाईटैक कैमरे
चुनाव के दिनों में शराब तस्करी पर शिकंजा गाड़ियों की विशेष चैकिंग के लिए पंजाब के सभी सरहदी क्षेत्रों पंजाब, हरियाणा, हिमाचल और राजस्थान के इंट्री प्वाइंट्स पर इंटर स्टेट नाके लगाए गए हैं। इन पर हरेक आने जाने वाली गाड़ी की विशेषरूप से चैकिंग की जा रही है। नाकों पर सीसीटीवी कैमरे भी लगाए गए हैं। अवैध रूप से शराब लाने-लेजाने पर भी नजर रखी जा रही है। इसके लिए लगाए नाकों पर पैरामिल्ट्री फोर्स और इनकम टैक्स के साथ-साथ आबकारी विभाग के अधिकारियों की तैनाती की गई है।

बाहरी लोगों को हलके से बाहर जाने को कहा
चुनाव में किसी भी तरह की कोई हिंसा या गड़बड़ी न हो इसके लिए चुनाव आयोग की हदायतों के मुताबिक आदेश दिए गए हैं कि 31 मई को बाहरी वोटर और लोग हलके में नहीं रहेंगे। इस पर निगरानी रखने के लिए स्थानीय स्तर पर विशेष प्रबंध किए गए हैं।

अब तक इतनी पकड़ी गई शराब
लोकसभा चुनाव-2024 के मद्देनजऱ लगाए गए आदर्श चुनाव आचार संहिता के दौरान चंडीगढ़-अम्बाला राष्ट्रीय मार्ग पर झरमड़ी बैरियर पर स्थित अंतरराज्यीय नाकों की भी चैकिंग की गई है। शराब के प्रवाह पर तकनीकी कंट्रोल रखने के लिए सभी शराब निर्माण इकाईयों पर लगाए गए सीसीटीवी कैमरों और बूम बैरियरों के कामकाज की भी चैकिंग की। केवल आदर्श चुनाव आचार संहिता के समय के दौरान ही आबकारी विभाग ने लगभग 1229 एफ.आई.आरज़ दर्ज की हैं और 1064 गिरफ़्तारियां की हैं। 19557 लीटर अवैध शराब पकड़ी गई है, 37,87,283 लीटर लाहन बरामद करके नष्ट की गई है, पी.एम.एल./आई.एम.एफ.एल./बीयर की 1,11,709 बोतलें ज़ब्त की हैं। इस ज़ब्ती की अनुमानित कीमत 25.71 करोड़ रुपए है। आबकारी विभाग ने शराब की ग़ैर-कानूनी तस्करी में शामिल लाइसेंसधारकों पर भी नकेल कसी गई है। कई मामलों में इन उल्लंघना में शामिल लाइसेंसधारकों के ठेके को बंद किया गया है।