Saturday , June 15 2024

पंजाब के आतंकवाद पीडि़तों का मुद्दा संसद में उठाऊंगा : सुभाष शर्मा

शर्मा ने राधा स्वामी सत्संग ब्यास मुखी गुरिंदर सिंह ढिल्लों से भी लिया आशीर्वाद
खबर खास, बंगा :
भारतीय जनता पार्टी के श्री आनन्दपुर साहिब से प्रत्याशी सुभाष शर्मा ने पंजाब में डेढ़-दो दशकों तक चले आतंकवाद का मुद्दा उठाते हुए लोगों को विश्वास दिलवाया है कि इससे पीडि़त पंजाबियों का मुद्दा संसद में उठाया जाएगा और पीडि़तों को न्याय दिलवाने का पूरा प्रयास किया जाएगा।आज बंगा और बेहराम में चुनावी जनसभाओं को संबोधित करते हुए डॉ. सुभाष शर्मा ने कहा कि जिस तरह देश में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की सरकार गठित होने के बाद विशेष जांच दल (सिट) बना कर दिल्ली के दंगा पीडि़तों को न्याय दिलवाने व दंगाइयों को जेल भेजने का काम शुरू हुआ है उसी तर्ज पर पंजाब के आतंकवाद पीडि़तों का विषय भी संसद में उठाया जाएगा। अपने सम्बोधन में डॉ. सुभाष शर्मा ने कहा कि चाहे पंजाब में आतंकवाद लगभग खत्म हो चुका है परन्तु कई दशक बीतने के बाद भी इससे पीडि़त पंजाबियों के जख्म आज भी ताजा हैं। इस गम्भीर विषय पर कांग्रेस,अकाली दाल और आप ने पीडि़तों के जख्मों को सहलाना तो दूर अभी तक पीडि़तों का समूचित सर्वेक्षण तक नहीं करवाया है। भाजपा पूरे प्रदेशवासियों के सहयोग और आशीर्वाद से इस काम को पूरा करेगी।

बेहराम और कुलथम में जनसभाओं को सम्बोधित करते डा. सुभाष शर्मा ने कहा कि पंजाब की पूर्व कांग्रेस सरकार ने और अब भगवंत मान सरकार ने केंद्र की जनहितैषी योजनाओं को पंजाब के लोगों तक पहुंचने ही नहीं दिया। पंजाब के गांवों में आयुष्मान कार्ड तक नहीं बनाए गए। कच्चे घरों में रहने वाले गरीबों की सुध नहीं ली गई। डा. सुभाष शर्मा ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी तो पंजाब की जनता के लिए बहुत कुछ कर रहे हैं लेकिन यहां की सरकारें आप तक मदद को पहुंचने नहीं देतीं। इसलिए आपने शिअद, कांग्रेस और आम आदमी पार्टी सबको मौका दे दिया अब एक अवसर भाजपा को दें। डा. सुभाष शर्मा ने कहा कि केंद्रीय योजनाओं के लाभ तभी इस लोकसभा हलके के लोगों तक पहुंचेंगे जब यहां से भाजपा का सांसद जीतेगा। उन्होंने कहा पंजाब में नशे के खात्मे और युवाओं को कौशल प्रशिक्षण के लिए यहां से भाजपा का जीतना बहुत जरूरी है।  सुभाष शर्मा और गुजरात के पूर्व मुख्यमंत्री एवं पंजाब भाजपा के प्रभारी विजय रुपानी ने राधा स्वामी सत्संग डेरा ब्यास मुखी गुरिंदर सिंह ढिल्लों से मुलाकात कर उनसे आशीर्वाद लिया।