Thursday , May 30 2024

भाजपा नेता सुनील जाखड़ को किसानों के बारे में बात करने का भी अधिकार नहीं…

पंजाब में भाजपा की मौजूदा स्थिति उनके लिए सही है: आप

मोदी ने किसानों को दोगुनी आय का वादा किया, लेकिन पूंजीपतियों को अधिक लाभ देने के लिए किसान विरोधी बिल लाए, दिल्ली की सीमाओं पर 750 से अधिक किसानों की मौत हो गई, क्या जाखड़ के पास इन विश्वासघातों का जवाब है? –  ईटीओ

पंजाब जल संकट का सामना कर रहा है, सीएम मान हमारे भूजल को बचाने के लिए काम कर रहे हैं और किसानों को फसल विविधीकरण अपनाने के लिए प्रेरित कर रहे हैं, लेकिन जाखड़ पूछ रहे हैं कि हमें गेहूं और धान के अलावा अन्य फसलों पर एमएसपी की आवश्यकता क्यों है, यह उनकी अज्ञानता के के बारे में बहुत कुछ बताता है: ईटीओ

खबर खास, चंडीगढ़:

पंजाब के किसानों के खिलाफ सुनील जाखड़ के ताजा बयान पर पलटवार करते हुए आम आदमी पार्टी (आप) पंजाब ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी और उसके पंजाब अध्यक्ष सुनील जाखड़ को किसानों के बारे में बात करने का भी कोई अधिकार नहीं है क्योंकि उनके विश्वासघातों को कोई नहीं भूला है। पार्टी ने कहा कि भाजपा सरकार ने अपने 10 साल के शासनकाल में किसानों पर सिर्फ अत्याचार किया है।

आप नेता और पंजाब के कैबिनेट मंत्री हरभजन सिंह ईटीओ ने सुनील जाखड़ को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि हमारे किसानों के खिलाफ भाजपा के गलत कामों की सूची अंतहीन है, लेकिन आज जाखड़ ने एक बार फिर अपना किसान विरोधी और पंजाब विरोधी चेहरा दिखाया है। आप नेता ने कहा कि नरेंद्र मोदी ने सत्ता में आने से पहले किसानों से उनकी आय दोगुनी करने का वादा किया था, लेकिन पीएम बनने के बाद अपने पूंजीपति मित्रों को अधिक लाभ पहुंचाने के लिए किसान विरोधी काले बिल लेकर आए। इतना ही नहीं पीएम मोदी ने बार-बार पूंजीपतियों का हजारों करोड़ का कर्ज माफ कर दिया। वहीं हमारे किसान कुछ हजारों का कर्ज नहीं चुका पाने पर आत्महत्या करने को मजबूर हो जाते हैं।

ईटीओ ने कहा कि हमारे किसानों ने दो बार दिल्ली के दरवाजे खटखटाए और दोनों बार उनके साथ इतना कठोर व्यवहार किया गया कि उनमें से सैकड़ों की दिल्ली की सीमाओं पर मौत हो गई। पहले किसान आंदोलन के दौरान 750 से अधिक किसानों की जान चली गई, तब मोदी को कृषि कानूनों के मामले में अपनी गलती का एहसास हुआ और उन्होंने उसे रद्द कर दिया। भाजपा पंजाब के किसानों की जीत और ताकत से दुखी है। उन्होंने कहा कि अभी कुछ ही महीने पहले हमने फिर से अपने किसानों पर हरियाणा और केंद्र की भाजपा सरकारों का हमला देखा। उन्होंने उन पर गोलियां चला दीं जिसमें बीस वर्षीय एक युवा किसान की मौत हो गई। ईटीओ ने सुनील जाखड़ से पूछा कि क्या उनके पास भाजपा के इन सभी विश्वासघातों का जवाब है? उन्होंने कहा कि मोदी सरकार ने हमारे किसानों के खिलाफ जो भी अत्याचार किए हैं, उसके लिए वह कब माफी मांगेंगे?

आप नेता ने कहा कि सीएम भगवंत मान बिल्कुल सही कह रहे हैं कि बीजेपी दिल्ली में सत्ता में थी और उन्होंने हमारे किसानों को दिल्ली में घुसने नहीं दिया, अब किसान भारत के गांवों पर राज करते हैं और वे बीजेपी नेताओं को अपने यहां नहीं घुसने दे रहे हैं। यह उचित ही है। उन्होंने कहा कि हमेशा की तरह बीजेपी और उसके नेता अपनी हार को पचा नहीं पा रहे हैं और दुख की बात है कि वे इस तरह इस तरह के बयान दे रहे हैं। आप नेता ने कहा कि पंजाब में बीजेपी की मौजूदा स्थिति उनके लायक बिल्कुल सही है।

ईटीओ ने इस बात पर भी आश्चर्य व्यक्त किया कि ये वंशवादी राजनेता कितने अज्ञानी हो सकते हैं। उन्होंने कहा कि पंजाब भीषण जल संकट से जूझ रहा है। सीएम भगवंत मान पंजाब के भूजल को बचाने के लिए लगातार उपाय और फैसले ले रहे हैं। वह किसानों को धान की सीधी बुआई और फसल विविधीकरण अपनाने के लिए प्रेरित कर रहे हैं ताकि हम अपने बहुमूल्य संसाधनों को बचा सकें। हमारे किसान एमएसपी के वादे के अधिकार के लिए वर्षों से लड़ रहे हैं और सुनील जाखड़ में कह रहे हैं कि हमें गेहूं और धान के अलावा अन्य फसलों पर एमएसपी की आवश्यकता क्यों है?

ईटीओ ने आगे कहा कि जब पंजाब, उसके लोगों और किसानों के लिए आवाज उठाने का समय होता है तो सुनील जाखड़ गायब हो जाते हैं। वह पंजाब के लिए और किसानों के मुद्दों पर कभी नहीं बोलते। लेकिन वह बेशर्मी से कृषि के मामले में भाजपा सरकार और नरेंद्र मोदी का बचाव करने के लिए प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हैं। आप मंत्री ने कहा कि जाखड़ जब कांग्रेसी थे तब मोदी सरकार की आलोचना करते थे और किसानों के मुद्दों पर उन्हें घेरते थे लेकिन अब वह उनकी ही भाषा बोल रहे हैं। उन्होंने कहा कि आज जाखड़ कह रहे हैं कि ”दस साल के मोदी शासन से मुख्य रूप से किसानों को फायदा हुआ”, तो सवाल उठता है कि वह कब झूठ बोल रहे थे, जब कांग्रेस में थे तब या अब एक मोदी भक्त के रूप में। उन्होंने कहा कि सुनील जाखड़ जो भी कहते हैं उसमें पंजाब के लोगों को रत्ती भर भी दिलचस्पी या भरोसा नहीं है।