Thursday , May 30 2024

नफरत की राजनीति करने वालों को दोबारा वोट दिया तो, यह होगा देश का आखिरी चुनाव…

माझा में गरजे सीएम मान! शैरी कलसी के लिए गुरदासपुर में किया चुनाव प्रचार, प्रताप बाजवा पर हमला, कहा – पीडब्ल्यूडी मंत्री रहते हुए टोल बनवाए, मैंने बंद करवाए

भगवंत मान माझा में चुनाव प्रचार का बिगुल फूंकने से पहले ऐतिहासिक हनुमान मंदिर में भी हुए नतमस्तक

खबर खास, चंडीगढ़ :

‘नफरत की राजनीति करने वालों को दोबारा वोट दिया तो, यह देश का आखिरी चुनाव होगा।’ यह कहना है मुख्यमंत्री भगवंत मान का। सीएम ने गुरुवार को गुरदासपुर में एक विशाल जनसभा को संबोधित किया और अपने अंदाज में शैरी कलसी के लिए चुनाव अभियान की शुरुआत की।

मान ने पंजाब को लगातार नुकसान पहुंचाने वाले अकाली और कांग्रेस नेताओं पर हमला बोला और गुरदासपुर के पूर्व सांसदों पर सीट जीतने के बाद नजरअंदाज करने का भी आरोप लगाया। रैली मैदान में पहुंचने से पहले मान ने गुरदासपुर के ऐतिहासिक हनुमान मंदिर में मत्था टेका और ईश्वर से देश का संविधान बचाने के लिए इन चुनावों को लड़ने की शक्ति देने की प्रार्थना की।

विशाल जनसमूह को संबोधित करते हुए मान ने कहा कि यह चुनाव किसी को जिताने या हराने का नहीं है। यह चुनाव हमारे लिए बाबा साहब अंबेडकर के संविधान को बचाने का आखिरी मौका है।। यह चुनाव हमारे लोकतंत्र को बचाने का एक मौका है। अगर नफरत फैलाने वाले दोबारा सत्ता में आए, तो वे हमारे लोकतंत्र को खत्म कर देंगे। वह भारत को तानाशाही देश बना देंगे। फिर देश में कोई चुनाव नहीं होगा। मान ने मतदाताओं से अपने वोटर कार्ड को ध्यान से देखने को कहा और बताया कि आपके वोटर कार्ड में हमारे शहीदों का सार है। उन पहचान पत्रों में आपको शहीद-ए-आजम भगत सिंह, राजगुरु, सुखदेव, चंद्रशेखर आजाद और लाला लाजपत राय के खून की गंध महसूस होगी। उन्होंने कहा कि ब्रिटिश राज में भी लोग सांस लेते थे, काम करते थे, शादी करते थे आदि। लेकिन, तब हमें वोट देने का अधिकार नहीं था। यही अधिकार के लिए हमारे शहीदों ने अपनी जान दी। इसलिए अपने वोट देने के अधिकार का जिम्मेदारी से उपयोग करें। अपना वोट बर्बाद न करें। अपना वोट शराब, ड्रग्स या नकदी के लिए न बेचें। आप स्वयं निर्णय करें। आप पर हमारे शहीदों का एहसान है।

मान ने गुरदासपुर के पिछले सांसदों के कामों पर दुख जताया और कहा कि ‘ढाई किलो का हाथ’ सीमा के दूसरी तरफ हैंडपंप उखाड़ रहे हैं, लेकिन उन लोगों का पता करने भी नहीं आते जिन्होंने उन्हें संसद में भेजा था। उनसे पहले आपने एक और अभिनेता को चुना था जो संसद में मुझसे पूछते थे कि मैं लोगों के बीच क्यों जाता हूं। वे बंबई से हैं, पंजाब का सूरज उन्हें शोभा नहीं देता। लेकिन हम आपके जैसे आम लोग हैं, अगर मैं अपने लोगों के बीच नहीं हूं, उनके लिए काम नहीं कर रहा हूं तो मुझे नींद भी नहीं आती। शैरी कलसी आप में से ही एक हैं, उन्हें चुनिए, उन्हें संसद में भेजिए, उनके पास अनुभव है। मैं उन्हें आगे मार्गदर्शन करूंगा। वह संसद में आपकी आवाज बनेंगे और आपके बीच रहकर आपका काम करेंगे। उन्होंने कहा कि गुरदासपुर को पिछले दस सालों में लापरवाही के कारण जो नुकसान हुआ है उसका भरपाई भी आप प्रत्याशी ही भरेगा।

भगवंत मान ने कांग्रेस नेता प्रताप सिंह बाजवा पर भी हमला बोला और कहा कि कांग्रेस ने उनके सीएम बनने के सपने की हत्या कर दी। मान ने कहा कि वह ऐसे शख्स हैं जो आम परिवारों के बेटे-बेटियों को मैटेरियल कहते थे। उन्होंने पीडब्ल्यूडी मंत्री रहते हुए चंडीगढ़ से गुरदासपुर हाईवे तक सबसे ज्यादा टोल प्लाजा बनवाए। उन्होंने अपने संसदीय क्षेत्र के आम लोगों के लिए कुछ करने के बजाय लुटेरों का साथ दिया। सत्ता में आने के बाद मैंने उन टोल प्लाजा को बंद कर दिया। वे (कांग्रेस और अकाली सरकारें) इन टोल प्लाजा की समय सीमा बढ़ाते थे और उन्हें आम लोगों को लूटने का लाइसेंस देते थे। उन्होंने बाजवा पर कहा कि उनका अपना भाई ही बीजेपी में है। उन्होंने कहा कि जनता ने उन पर बार-बार भरोसा किया। उन्हें विधानसभा, लोकसभा और राज्यसभा में भेजा लेकिन उन्होंने जनता के लिए कुछ नहीं किया।

मान ने कहा कि पहले किसानों को आठ घंटे बिजली मिलती थी। उसका भी खूब मतलब निकाला गया, क्योंकि वंशवादी नेताओं को खेती के बारे में कुछ पता ही नहीं है। लेकिन सरकार बनने के बाद हमने अधिकारियों की बैठक बुलाई और उन्हें निर्देश दिया कि किसानों को 11 घंटे निर्बाध बिजली दी जाए और वह भी दिन में ताकि वे बिना किसी परेशानी के अपनी फसलों को पानी दे सकें। मान ने कहा कि दिन के उजाले में हम अपने किसानों को बिजली देते हैं और रात में हम अतिरिक्त बिजली मुंबई जैसे बड़े शहरों को बेचते हैं। मान ने कहा कि पीएसपीसीएल ने बिजली बेचकर 90 करोड़ कमाए। यह केवल इसलिए संभव हुआ क्योंकि हमारे पास अब तीन थर्मल प्लांट और झारखंड में एक कोयला खदान है

मान ने कहा कि उनके एक अनुरोध पर किसानों ने पूसा-44 की बजाय पीआईआर-126, पीआईआर-127, पीआईआर-128 आदि की खेती की, जिससे 477 करोड़ रुपये की बिजली और 500 अरब क्यूबिक भूजल की बचत हुई। टाइम्स ऑफ इंडिया ने इस पर विस्तृत खबर छापी है। मान ने कहा कि उन्हें इस बारे में कानून बनाने की जरूरत भी नहीं पड़ी क्योंकि लोग उनकी बात सुनते हैं और राज्य के संसाधनों को बचाने के लिए उनके साथ मिलकर काम करते हैं। लोग ऐसा इसलिए करते है क्योंकि हम भी उनके साथ मिलकर उनकी समस्याओं को खत्म करने के लिए काम करते हैं।

मान ने अकाली दल पर भी हमला बोला और कहा कि उनके नेता सुखबीर बादल और हरसिमरत बादल को यह भी नहीं पता कि खेती में काम कैसे होता है। उन्होंने कहा कि शिअद-बादल की टिकट पर कोई भी चुनाव लड़ने को तैयार नहीं है। उन्हें 13 उम्मीदवार भी नहीं मिल रहे हैं। वे पंजाब में खत्म हो गए हैं। उन्होंने कहा कि हो सकता है कि यमराज के साथ उनका कोई समझौता हो, क्योंकि लोग जानते हैं कि मरने के बाद कोई पूंजी हमारे साथ नहीं जाती, लेकिन वे पंजाब को ऐसे लूटते रहे जैसे कि मरने के बाद भी वे सब कुछ अपने साथ ले जाएंगे। उन्होंने कहा कि अब वे कुछ भी करें, पंजाब के लोग उन्हें माफ नहीं करेंगे। वे पंजाब में बेअदबी की घटनाओं के लिए जिम्मेदार हैं। उन्होंने हमारे युवाओं के भविष्य को बर्बाद किया।

मान ने कहा कि दिल्ली में पत्रकारों ने उनसे पूछा कि भ्रष्टाचार से हमारे देश को कितना नुकसान हुआ है? मैंने उनसे कहा कि भ्रष्टाचार बंद होने के बाद हम हिसाब लगाएंगे, क्योंकि भ्रष्टाचार अभी भी जारी है। शीर्ष पदों पर लुटेरे बैठे हैं जो इस देश के संसाधनों और संस्थानों को पूंजीपतियों को बेच रहे हैं। मान ने कहा कि जिस दिन अरविंद केजरीवाल पीएम बनेंगे उस दिन भ्रष्टाचार बंद हो जाएगा। जिस दिन केंद्र में आम आदमी पार्टी की सरकार होगी उस दिन इस देश में भ्रष्टाचार बंद हो जाएगा।