Monday , April 15 2024

‘दिल्ली चलो’ मार्च दो दिनों के लिए स्थगित, 1 प्रदर्शनकारी सहित 3 पुलिसकर्मियों की मौत

नई दिल्ली. पंजाब-हरियाणा सीमा पर दो प्रदर्शन स्थलों में से एक खनौरी सीमा पर झड़प में एक प्रदर्शनकारी की मृत्यु, वहीं करीब 12 पुलिसकर्मियों के घायल होने के बाद किसान नेताओं ने बुधवार को ‘दिल्ली चलो’ मार्च दो दिनों के लिए  स्थगित कर दिया. किसान नेता सरवन सिंह पंधेर के अनुसार, वे शुक्रवार शाम को आगे की रणनीति को तय करने वाले हैं. आपको बता दें कि दो दिन की शांति के बाद तीन केंद्रीय मंत्रियों के एक दल के साथ रविवार रात को चौथे दौर की वार्ता हुई. यह बैठक भी बेनतीजा साबित हुई. खनौर और शंभू में पंजाब के किसानों ने सुबह दोबारा से आंदोलन शुरू कर दिया. 

बुधवार को हरियाणा पुलिस के सब-इंस्पेक्टर विजय कुमार की मौत हो गई. विजय कुमार टोहाना बॉर्डर पर ड्यूटी पर तैनात थे. इस बीच उनकी अचानक से तबीयत खराब हो गई और फिर कुछ देर बाद उनकी मृत्यु हो गई. अभी तक इस किसान आंदोलन में तीन पुलिसकर्मियों की मौत हो चुकी है. इस घटना को लेकर पुलिस महानिदेशक ने दुख जाहिर किया है.  

हरियाणा पुलिस ने बुधवार को बताया कि खनौरी सीमा पर प्रदर्शनकारियों ने उन पर पथराव किया. इस दौरान लाठी और गंडासे का उपयोग किया गया. इस हमले में करीब 12 जवान गंभीर रूप से घायल हो गए. हरियाणा पुलिस की प्रवक्ता मनीषा चौधरी के अनुसार, हरियाणा के दाता सिंह खनौरी सीमा पर प्रदर्शनकारियों ने पराली में मिर्च पाउडर को डालकर पुलिस को हर तरफ से घेर लिया था. उन्होंने प्रदर्शनकारियों से शांति की अपील की है. इससे पहले हरियाणा पुलिस ने शंभू और खनौरी सीमाओं पर किसानों को अवरोधकों की ओर बढ़ने से रोकने को लेकर बुधवार को उन पर आंसू गैसे के गोले दागे गए.

फसलों के न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) पर कानूनी गारंटी देने की मांग कर रहे किसानों ने ऐलान किया था कि वे इस मुद्दे को हल करने को लेकर किसानों के साथ चौथे चरण की चर्चा विफल होने के बाद बुधवार सुबह 11 बजे अपना प्रदर्शन दोबारा से आरंभ करेंगे. 

कई किसानों ने हरियाणा में अंबाला के समीप शंभू में कई चरणों में लगाए अवरोधकों की बढ़ने का प्रयास किया. इसके बाद पुलिस ने उन्हें हटाने को लेकर आंसू गैस के गोल दागे. थोड़ी देर के विराम के बाद ​दोबारा ऐसी घटना सामने आई. शंभू सीमा के करीब ऊपर एक ड्रोन भी देखा गया. पंजाब-हरियाणा सीमा पर खनौरी में भी ऐसे हालात देखे गए हैं. इस दौरान हरियाणा पुलिस ने अवरोधकों की ओर बढ़ने के प्रयास कर रहे किसानों को हटाने के लिए आंसू गैस के कई गोले छोड़ दिए.