Wednesday , April 24 2024

हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज और एसपी अंबाला पर विभिन्न धाराओं में हो मामला दर्ज

चंडीगढ़ में राजा वडिंग ने कहा
बोले किसानों के साथ जो हुआ वह ‘फ्रीडम आफ स्पीच’ का है उल्लंघन
खबर खास, चंडीगढ़:
पीसीसी प्रमुख कैप्टन अमरिन्दर सिंह राजा के नेतृत्व में पंजाब कांग्रेस का एक प्रतिनिधिमंडल आज दोपहर पंजाब सिविल सचिवालय में पंजाब के मुख्य सचिव से मिलने पहुंचा। इस दौरान हरियाणा पुलिस द्वारा कानून एवं व्यवस्था क्षेत्राधिकार के घोर उल्लंघन के लिए कार्रवाई की मांग को लेकर एक ज्ञापन दिया भी दिया। बैठक के बाद मीडिया से बातचीत करते हुए राजा वडिंग ने कहा कि किसानों के साथ पंजाब सीमा पर जो हुआ वो धारा19 और 21 यानि फ्रीडम आॅफ स्पीच का उल्लंघन है। वडिंग ने कहा कि हमारे किसान दिल्ली जा रहे थे और किसी ने कानून अपने हाथ में नहीं लिया। पर हमारी सरजमीं पर किसानों के साथ हरियाणा सरकार और पुलिस की कार्यवाही उचित नहीं। उन्होंने कहा कि यदि हमारे किसान हरियाणा की जमीन पर होते तो वह कुछ भी कार्रवाई करते हमें कोई ऐतराज नहीं था। लेकिन हमारी सरजमीं पर रबड़ की गोलियां चलाई गईं।
वडिंग ने कहा कि बीते रोज जब हमारे नेता राहुल गांधी ने एक घायल किसान जोकि पूर्व सैनिक भी थे, से बात की तो उन्होंनंे बताया कि उनके शरीर में कई जगह गोलियों के छर्रे लगे हुए हैं। किसान ने बताया कि वह सेना में रह चुके हैं और अब पेंशन पर हैं और उन्हें पता है कि छर्रा क्या होता है और आंसू गैस क्या होती है। उन्होंने बताया कि आंसू गैस की आड़ में गोलियां चलाईं गईं।
वडिंग ने कहा कि कईयों को बहुत नुकसान हुआ कम से कम 100-200 लोगों को गंभीर चोटें आईं हैं। जिनकी आंखें चलीं गई और यह मानवीय अधिकार का उल्लंघन है।उन्होंने कहा कि हम पंजाब सरकार को अनुरोध करते हैं कि हरियाणा के होम मिनिस्टर और एसपी अंबाला पर मामला दर्ज किया। क्योंकि हमारे अधिकार क्षेत्र में आ कर हमारे लोगों को जख्मी करने का उन्हें क्या अधिकार है। भाजपा में इतना अहंकार हो गया वहां के मंत्री ने हमारी सीमा पार कर हमारे ही लोग जख्मी कर दिए। यह सरासर जुल्म है।
उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री भगवंत मान को इन किसानों के ब्यान लेकर उस हिसाब से धाराएं लगाकर मामले दर्ज करने चाहिए क्योंकि किसानों पर जो हमला हुआ है वह लाईफ थरैटनिंग है। इसकी कापी डीजीपी को भी भेजी गई है।
वहीं, किसानों के मामले में वडिंग ने कहा कि आज की बैठक में किसान नेता जो फैसला लेते हैं वह, उनके साथ रहेंगे। वडिंग ने कहा कि यदि केंद्र पहले ही बैठक कर किसानों से मसला सुलझा लेता तो यह नौबत नहीं आती। उन्होंने कहा कि इस बार भी पंजाबियों का नुकसान हुआ है और पहले भी 700 किसान शहीद हुए।
हरियाणा के मुख्यमंत्री खट्टर को दिया जवाब
वडिंग ने कहा कि अन्नदाता यदि विरोध करने अपने टरैक्टर पर नहीं जाएगा तो क्या आपकी चलाई रेलें और बसों में जाएगा? पता नहीं आप उन्हें कहां उतार कर कहां ले जाएं। आपका ऐतबार नहीं है। उन्होंने कहा कि कील लगाकर पंजाब के लोगों को डराया गया है। केंद्र यह कर रहा है कि पंजाब देश में ही शामिल नहीं। किसान शांति पूर्वक जा रहा था पर आपने सीमा पर कीलें लगा दीं, बाधाएं खड़ी कर दी रास्ते में तो आप लोगों ने।

The post हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज और एसपी अंबाला पर विभिन्न धाराओं में हो मामला दर्ज first appeared on Khabar Khaas.