Thursday , February 22 2024

पंजाब पुलिस ने इस साल अब तक की सबसे अधिक 1161 किलो हेरोइन की बरामद

127 करोड़ रुपए की 294 प्रापटी भी की जब्त

खबर खास, चंडीगढ़-

मुख्यमंत्री भगवंत सिंह मान के दिशा-निर्देशों पर सरहदी राज्य से नशे की बीमारी को जड़ से खत्म करने के लिए नशे के विरुद्ध छेड़ी जंग को और तेज़ करते हुए डीजीपी पुलिस (गौरव यादव के नेतृत्व अधीन पंजाब पुलिस ने साल 2023 में अब तक की सबसे अधिक 1161 किलोग्राम हेरोइन ज़ब्त करके एक नया मील पत्थर स्थापित किया है। यह जानकारी आज, बुधवार को यहाँ आइजीपी हैडक्वाटर डॉ. सुखचैन सिंह गिल ने दी।

आईजीपी ने बताया कि यह पहली बार है कि 65 नशा पीडि़तों, जिनको कम मात्रा में नशीले पदार्थों के साथ पकड़ा गया था, ने पुनर्वास के लिए इलाज करवाने का प्रण करके एनडीपीएस की धारा 64-ए का लाभ उठाया है।  डॉ. सुखचैन सिंह गिल, जो ‘ईयर ऐंडर’ प्रैस कॉन्फ्रेंस को संबोधित कर रहे थे, ने बताया कि 1 जनवरी से 26 दिसंबर, 2023 तक पंजाब पुलिस ने 10786 एफ.आई.आरज़, जिनमें 1385 व्यापारिक मामले हैं, दर्ज करके 2424 बड़ी मछलियों समेत 14951 नशा तस्करों/ सप्लायरों को गिरफ़्तार किया है।

उन्होंने बताया कि पुलिस टीमों ने 1161 किलोग्राम हेरोइन की बड़ी खेप बरामद करने के अलावा राज्य भर में से 795 किलोग्राम अफ़ीम, 403 क्विंटल भुक्की और फार्मा ओपीऑड्ज़ की 83.17 लाख गोलियाँ / कैप्सूल / टीके / शीशियां बरामद की हैं। उन्होंने आगे बताया कि इस साल गिरफ़्तार किये गए नशा तस्करों के पास से 13.67 करोड़ रुपए की ड्रग मनी भी बरामद की गई है।

आईजीपी ने बताया कि पंजाब पुलिस द्वारा इस साल बड़े नशा तस्करों की 127 करोड़ रुपए की 294 जायदादों ( 110.64 करोड़ रुपए की अचल और 16.45 करोड़ रुपए की चल जायदादें ) ज़ब्त की गई हैं, जबकि 26 करोड़ रुपए की जायदादों को ज़ब्त करने के और 90 प्रस्ताव समर्थ अथॉरिटी के पास लम्बित हैं।  उन्होंने कहा कि एनडीपीएस मामलों में भगौड़े अपराधियों को पकडऩे के लिए चलाई गई विशेष मुहिम के अंतर्गत पंजाब पुलिस द्वारा 1 जनवरी, 2023 से अब तक 673 पी.ओज़/ भगौड़ों को गिरफ़्तार किया गया है।

आईजीपी सुखचैन सिंह गिल ने कहा कि एनडीपीएस एक्ट के अंतर्गत बार-बार अपराध करने वालों पर शिकंजा कसते हुए पंजाब पुलिस ने एसटीएफ हैडक्वाटर को 55 ऐसे ही नशा तस्करों की सूची भेजी है, जिससे उनके विरुद्ध प्रीवैशन ऑफ इलीसिट ट्रैफिक़ इन नार्कोटिक ड्रग्ज़ साईकोट्रोपिक सबस्टांसिज़ (पीआईटी-एनडीपीएस) एक्ट के अंतर्गत कार्यवाही की जा सके। पीआईटी-एनडीपीएस एक्ट की धारा 3 सरकार को ऐसे नशा तस्करों को नशीले पदार्थों और साईकोट्रोपिक सबस्टांसिज़ की ग़ैर-कानूनी तस्करी में शामिल होने से रोकने के लिए निवारक हिरासत में लेने का अधिकार देती है।

एजीटीएफ ने 482 गैंगस्टरों/ अपराधियों को किया गिरफ्तार और 9 को मार गिराया

साल 2023 में गैंगस्टरों के विरुद्ध पंजाब पुलिस की उपलब्धियों का जिक्र करते हुए, आईजीपी ने बताया कि एंटी गैंगस्टर टास्क फोर्स (एजीटीएफ) ने फील्ड ईकाइयों के साथ मिलकर इस साल 188 गैंगस्टर/ अपराधी माड्यूलों का पर्दाफाश किया और 482 गैंगस्टरों/ अपराधियों को गिरफ़्तार करने में सफलता हासिल की है। इसके अलावा पुलिस टीमों द्वारा उनसे 519 हथियार, आपराधिक गतिविधियों में इस्तेमाल किए गए 102 वाहन, 4.5 किलो हेरोइन और 71.08 लाख रुपए की ड्रग मनी भी बरामद की गई है।

उन्होंने कहा कि इस साल पुलिस पार्टियों और अपराधियों के दरमियान कम से कम 60 मुकाबले हुए, जिस दौरान 9 गैंगस्टर/ अपराधियों को मार गिराया गया और 127 गैंगस्टर/ अपराधी गिरफ़्तार किये गए, जिनमें से 32 जख़़्मी हुए। आईजीपी सुखचैन सिंह गिल ने अफ़सोस ज़ाहिर करते हुए कहा कि इस गोलीबारी के दौरान हमारा एक साथी कर्मचारी शहीद हो गया, जब कि छह पुलिस कर्मचारी जख़़्मी हुए।

जि़क्रयोग्य है कि सत्ता में आने के तुरंत बाद, मुख्यमंत्री भगवंत सिंह मान के नेतृत्व वाली राज्य सरकार ने राज्य में से गैंगस्टरों का ख़ात्मा करने के लिए 6 अप्रैल, 2022 को एडीजीपी प्रमोद बान के नेतृत्व अधीन विशेष गैंगस्टर विरोधी टास्क फोर्स ( एजीटीएफ) का गठन किया था।

आईजीपी ने कहा कि इस साल पंजाब में छह बड़ी घटनाएँ घटीं, जिनमें अमृतसर की हेरिटेज स्ट्रीट में तीन कम- दर्जे के विस्फोटक धमाके; बटाला स्थित हिंदु शिव सेना ( समाजवादी) नेता और उसके भाई और उसके बेटे पर कातिलाना हमला; बठिंडा में कुलचे की दुकान के मालिक का कत्ल; लुधियाना में डकैती; मोगा के गाँव खोसा कोटला में पूर्व सरपंच का कत्ल; बदमाशों द्वारा लुधियाना के उद्योगपति को लूटने के लिए अगवा करके उसको गोली मारने का मामला, शामिल है। उन्होंने बताया कि पंजाब पुलिस द्वारा रिकॉर्ड समय में इन सभी बड़े अपराधों की गुत्थी को प्रभावशाली ढंग से सुलझा लिया गया।

उन्होंने कहा कि फिरौती की कॉल के विरुद्ध सख़्त कार्यवाही करते हुए पंजाब पुलिस ने 201 एफ.आई.आरज़. दर्ज की और रसूख़वान व्यक्तियों से पैसे वसूलने के लिए धमकी भरी कॉल करने वाले 99 व्यक्तियों को गिरफ़्तार किया है।

आईजीपी ने आतंकवादियों के विरुद्ध कार्यवाही संबंधी विवरण देते हुए बताया कि 2023 में, आंतरिक सुरक्षा इकाई ने 67 आतंकवादियों को गिरफ़्तार करके 13 आतंकवादी मॉड्यूलों का पर्दाफाश किया और उनके कब्ज़े से दो राईफलें, 55 रिवॉल्वर/ पिस्तौल, दो टिफिन इम्प्रोवाइज्ड एक्सप्लोसिव डिवाइस (आईईडीज़), 2.14 किलो आरडीएक्स ओर विस्फोटक, दो हैंड ग्रेनेड और 111 ड्रोन बरामद किये। उन्होंने बताया कि पुलिस टीमों ने ड्रोनों के द्वारा भेजी गई 253 किलो हेरोइन, 16 पिस्तौलें, एके-47 राइफल समेत दो राईफलें ( मैगज़ीन और जिंदा कारतूसों समेत) और 20.26 लाख रुपए की ड्रग मनी बरामद की है। बताने योग्य है कि इस साल 303 ड्रोन गतिविधियां देखी गईं।

उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री द्वारा सुरक्षा की दूसरी पंक्ति को और मज़बूत करने और नशा तस्करों और समाज विरोधी तत्वों के विरुद्ध चौकसी रखने के लिए सरहदी क्षेत्रों में क्लोज़्ड सर्किट टैलिविजऩ (सीसीटीवी) कैमरे लगाने के लिए पहले ही 19.25 करोड़ रुपए मंज़ूर किये गए हैं। इसके साथ ही ड्रोन गतिविधियों को प्रभावशाली ढंग से काबू करने के लिए दो समितियाँ भी बनाई गई थीं।

उन्होंने कहा कि एडीजीपी सुरक्षा एसएस श्रीवास्तव के नेतृत्व वाली पहली समिति ड्रोन खोज, निरपक्षता, प्रभावशाली पुलिसिंग, आपदा प्रबंधन, ड्रोन प्रशिक्षण और ड्रोन फोरेंसिक के लिए ड्रोनों का कानूनी प्रयोग, जब कि एडीजीपी काउन्टर इंटेलिजेंस अमित प्रसाद के नेतृत्व वाली दूसरी समिति ड्रोन की ज़रूरतों का मुल्यांकन करने, ड्रोन के प्रयोग के लिए प्रशिक्षण, ड्रोनों का मुकाबला करने और उपकरणों की खरीद के लिए सामथ्र्य को मज़बूत करने के लिए भविष्य का रोडमैप तैयार करेगी।

आईजीपी ने कहा कि नौजवानों को रोजग़ार के अवसर प्रदान करने और उनकी ऊर्जा को सही दिशा में लगाने के लिए पंजाब सरकार ने आने वाले चार सालों के लिए हर साल 1800 कांस्टेबल और 300 सब-इंस्पेक्टर भर्ती करने का फ़ैसला किया है। उन्होंने कहा कि इस साल 746 सब- इंस्पेक्टरों और 144 सिविल स्पोर्ट स्टाफ को नियुक्ति पत्र दिए गए हैं, जब कि इन्वेस्टिगेशन काडर में 787 हैड कांस्टेबलों की भर्ती लगभग मुकम्मल हो चुकी है और अलग-अलग काडरों में 3496 कांस्टेबलों की भर्ती प्रक्रिया अधीन है।

उन्होंने कहा कि 2023 में 2 करोड़ रुपए के 6 चैक ( 1 करोड़ रुपए एक्स-ग्रेशिया और 1 करोड़ रुपए का एच.डी.एफ.सी. बीमा कवर) ड्यूटी के दौरान शहीदी प्राप्त करने वाले पंजाब पुलिस के पाँच कर्मचारियों और एक होमगार्ड के परिवारों को सौंपे गए।

सड़कों को सुरक्षित बनाने के लिए एसएसएफ प्रोजैक्ट पूरी तरह से तैयार

आगामी प्रोजैक्ट संबंधी आईजीपी सुखचैन सिंह गिल ने कहा कि मुख्यमंत्री भगवंत सिंह मान के पंजाब की सडक़ों को सुरक्षित बनाने और सडक़ हादसों में होने वाली मौतों को घटाने के उद्देश्य से बनाऐ गए महत्वाकांक्षी प्रोजैक्ट सडक़ सुरक्षा फोर्स ( एसएसएफ) शुरू करने के लिए पूरी तरह तैयार है। जि़क्रयोग्य है कि एसएसएफ एक विशेष पुलिस टीम है जो सडक़ सुरक्षा और प्रभावशाली ढंग से अपराधियों का पीछा करने के लिए समर्पित होगी।

राज्य में सडक़ नैटवर्क को और सुरक्षित बनाने के उद्देश्य से एक और अनूठी पहल करते हुए पंजाब पुलिस के ट्रैफिक़ विंग के नेतृत्व अधीन पंजाब रोड सेफ्टी एंड ट्रैफिक़ रिसर्च सैंटर ( पीआरएसटीआरसी) ने एडवांस्ड एआई क्षमता वाले सोलर पावर्ड स्मार्ट बैरीकेड लगाए हैं, जो लायसेंस प्लेटों को बारीकी से स्कैन कर सकते हैं, ब्लैकलिस्ट किये गए वाहनों की पहचान कर सकते हैं और किसी भी संदिग्ध गतिविधियों के लिए अधिकारियों को तुरंत सचेत कर सकते हैं। यह बैरीकेड, जो कि फ्लैशिंग लाईटों और स्पीकर के साथ लैस हैं, 24&7 काम करने में सक्षम हैं।

छह हाईप्रोफाइल मामले किए प्रभावी ढंग से हल

उन्होंने बताया कि छह हाईप्रोफाइल मामले भी पुलिस ने प्रभावी ढंग से हल किए। इनमें  अमृतसर के हेरिटेज स्ट्रीट में तीन निम्न श्रेणी के विस्फोटक से विस्फोट का मामला,  बटाला स्थित हिंदू शिव सेना (समाजवादी) नेता पर जानलेवा हमला, बठिंडा में कुलचा दुकान मालिक की हत्या,  लुधियाना में डकैती, मोगा के गांव खोसा कोटला में पूर्व सरपंच की हत्या और पैसे वसूलने के लिए बदमाशों ने लुधियाना के उद्योगपति का अपहरण और उसे गोली मारने की घटना शामिल है।

 

The post पंजाब पुलिस ने इस साल अब तक की सबसे अधिक 1161 किलो हेरोइन की बरामद first appeared on .