Thursday , February 22 2024

Punjab : आम आदमी पार्टी को नए वादे करने से पहले पिछले वादों को पूरा करना चाहिए 

चंडीगढ़: पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान 2024 में होने वाले आम चुनावों से पहले नए सिरे से गारंटी और वादे पेश कर रहे हैं, वहीं विपक्ष के नेता प्रताप सिंह बाजवा ने मंगलवार को मुख्यमंत्री मान मान को 2022 में पंजाब में विधानसभा चुनाव से पहले किए गए वादों के बारे में याद दिलाने का प्रयास किया।

उन्होंने कहा, ‘2022 में विधानसभा चुनाव से पहले आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा था कि अगर आप राज्य में सत्ता में आती है, तो वह 18 या उससे अधिक उम्र की हर महिला के खाते में प्रति माह 1,000 रुपये हस्तांतरित करेगी. इस बीच, आप को राज्य में शासन किए हुए 20 महीने हो गए हैं, फिर भी यह वादा पूरा नहीं हुआ है।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ने कहा कि आप सुप्रीमो अरविंद केजरीवाल ने भी वादा किया था कि आप की सरकार बनने के बाद एक अप्रैल, 2022 के बाद कोई भी किसान या मजदूर आत्महत्या नहीं करेगा। केजरीवाल का यह वादा सरकार बनने के एक महीने के भीतर ही बिखर गया। अप्रैल 2022 में ही कर्ज में डूबे 15 किसानों ने आत्महत्या कर ली। इसी तरह, अरविंद केजरीवाल ने भी खनन से 20,000 करोड़ रुपये और भ्रष्टाचार को समाप्त करके 34,000 करोड़ रुपये सहित विभिन्न स्रोतों से राजस्व जुटाने की कसम खाई थी। हालांकि, 20 महीने बाद आप सरकार ने राज्य में कर्ज बढ़ा दिया। जब से आप ने सरकार बनाई है, राज्य की अर्थव्यवस्था अधर में लटकी हुई है।

विपक्षी नेता ने कहा कि सीएम बनने से पहले भगवंत मान वीआईपी कल्चर को लेकर दूसरे राजनीतिक दलों के नेताओं का मजाक उड़ाते थे। अब सीएम बनने के बाद न सिर्फ वह बल्कि पूरा परिवार वीआईपी कल्चर की विलासिता का आनंद लेता है। उन्होंने कहा, ‘सत्ता में आने से पहले भगवंत मान ने कहा था कि प्रभावित किसानों को बिना सर्वेक्षण किए मुआवजा दिया जाएगा, जिनकी फसल प्राकृतिक आपदा से बर्बाद हो गई थी। हाल ही में आई बाढ़ में हजारों एकड़ फसल बर्बाद हो गई थी, आप सरकार मुआवजा प्रदान करने के लिए सर्वेक्षण रिपोर्ट का इंतजार करती रही।