Thursday , February 22 2024

‘सरकार की जनहितैषी व विकास प्रमुख योजनाओं को योग्य पात्र तक पहुंचाएं’

मुख्यमंत्री मान ने अधिकारियों को दिए सख्त निर्देश
विभिन्न विभागों के प्रशासनिक सचिवों के साथ बैठक कर लिया जायजा
खबर खास, चंडीगढ़:
पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत सिंह मान ने बुधवार को अधिकारियों को राज्य सरकार की जनहितैषी और विकास प्रमुख स्कीमों का लाभ हरेक योग्य लाभपात्री तक पहुँचाये जाने को यकीनी बनाने के लिए कहा। उन्होंने अधिकारियों को चेताते हुए कहा कि राज्य सरकार भलाई योजनाओं को लागू करने में किसी तरह की लापरवाही और लिहाज़ को बर्दाश्त नहीं करेगी।
आज यहाँ अलग- अलग विभागों के प्रशासनिक सचिवों की बैठक की अध्यक्षता करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार पंजाब के विकास और लोगों की ख़ुशहाली के लिए पूर्ण तौर पर वचनबद्ध है। उन्होंने कहा कि सेहत, शिक्षा, रोज़गार जैसे क्षेत्र राज्य सरकार के प्राथमिकता वाले क्षेत्र हैं और लोगों की सुविधा के लिए इन क्षेत्रों पर अधिक ध्यान दिया जाना चाहिए। मान ने कहा कि राज्य भर में चल रहे प्रोजेक्टों को तय समय में मुकम्मल किया जाना चाहिए और लोगों की भलाई के लिए नयी स्कीमों की रूप-रेखा बनानी चाहिए।
मान ने अधिकारियों को कहा कि सम्बन्धित विभागों द्वारा निर्धारित बजट को समय पर इस्तेमाल किये जाने को यकीनी बनाने के लिए कहा। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य के विकास और लोगों की भलाई के लिए सरकार के पास फंडों की कोई कमी नहीं। उन्होंने कहा कि लोगों को साफ़- सुथरा शासन और पारदर्शी प्रशासकीय कामकाज मुहैया करवाना राज्य की प्रमुख प्राथमिकता है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि समाज भलाई स्कीमों को लागू करने में किसी भी तरह की ढिलाई बर्दाश्त नहीं की जायेगी। जरूरतमंद व्यक्ति को लाभ पहुँचाने के लिए उचित व्यवस्था बनाने की ज़रूरत पर ज़ोर देते हुये मुख्यमंत्री ने कहा कि अधिकारियों को इन स्कीमों का लाभ योग्य लोगों को मिलना यकीनी बनाने के लिए निरंतर निगरानी रखनी चाहिए।
मुख्यमंत्री ने आगे कहा कि राज्य सरकार हर हाल में यह यकीनी बनाऐगी कि इन स्कीमों का फ़ायदा सिर्फ़ योग्य लोगों को ही मिले। उन्होंने कहा कि यह समय की ज़रूरत है कि राज्य को सही मायनों में ‘रंगला पंजाब’ बनाया जाये जहाँ हर नागरिक स्वाभिमान के साथ अपना जीवन बसर कर सके। भगंवत सिंह मान ने कहा कि सरकारी स्कीमों का लाभ हासिल करना हरेक योग्य व्यक्ति हक है और अधिकारियों का भी यह फ़र्ज़ बनता है कि कोई भी लाभपात्री यह लाभ लेने से वंचित न रहे।