Friday , July 19 2024

उमेश पाल हत्याकांड : अतीक पर लटकी रिमांड की तलवार, पहुंचे नैनी जेल, कल होगी पेशी

प्रयागराज : उमेश पाल अपहरण मामले में उम्रकैद की सजा मिलने के बाद अब उसी की हत्या के मामले में पूछताछ के लिए माफिया अतीक अहमद को प्रयागराज पुलिस गुजरात की साबरमती जेल से बुधवार शाम यहां लेकर पहुंची। उसे नैनी सेंट्रल जेल में रखा गया है और गुरूवार को माफिया सरगना को अदालत में पेश किया जायेगा।

बसपा विधायक राजूपाल की हत्या के मुख्य गवाह उमेश पाल के अपहरण के मामले में अदालत ने अतीक को उम्रकैद की सजा सुनायी है। उमेश पाल की पिछली फरवरी को हत्या कर दी गयी थी। इस मामले में आरोपी अतीक को पूछताछ के लिये दोबारा प्रयागराज लाया गया है।
उमेश पाल हत्या मामले में पूछताछ करने के लिए पुलिस ने कोर्ट में एक सप्ताह पहले वारंट बी के तहत अर्जी दी थी जिसे स्वीकार कर लिया गया था।

अतीक और उसके भाई अशरफ को गुरूवार को सीजेएम कोर्ट में पेश किया जाएगा जहां पुलिस वारंट बी के तहत कोर्ट से उसकी रिमांड की अर्जी देगी। अशरफ को बरेली जेल से यहां लाया गया है। काेर्ट से रिमांड मिलने के बाद दोनो से पूछताछ की जाएगी। गौरतलब है कि वारंट बी किसी भी जेल में बंद आरोपी के लिए न्यायालय से जारी होता है। किसी मामले में विवेचक जब कोर्ट को बताता है कि उसने ‘इस’ व्यक्ति को आरोपी बनाया है, तब कोर्ट वारंट बी जारी करती है।

अतीक अहमद के अलावा बरेली जेल से अशरफ को भी प्रयागराज लाया गया है। पिछले दिनों पुलिस टीम ने अदालत से जारी बी वारंट को जेल में तामील कराया था। उमेश पाल हत्याकांड मामले में साजिश रचने के आरोप में माफिया अतीक अहमद की पेशी के लिए उसे गुजरात की साबरमती जेल से नैनी जेल लाया गया है। यूपी पुलिस का काफिला अतीक अहमद को लेकर करीब सवा छह बजे नैनी जेल पहुंचा।

सीजेएम की अदालत ने उमेश पाल अपहरण मामले में 28 मार्च को अतीक अहमद, दिनेश पासी और वकील खान शौलत हनीफ को आजीवन कारावास और एक-एक लाख क्षतिपूर्ति की सजा सुनाई है जबकि भाई अशरफ समेत सात लोगों को साक्ष्य के अभाव में दोष मुक्त करार दिया गया।

बहुजन समाज पार्टी(बसपा) के तत्कालीन विधायक राजू पाल की 28 फरवरी 2006 को हत्या का उमेश पाल मुख्य गवाह था। उसे गवाही नहीं देने के लिए अपहरण कराया गया था। 17 साल बाद 28 मार्च 2023 को अतीक अहमद को इसी मामले में आजीवन कारावास की सजा हुई। अतीक अहमद को अपहरण कांड की सजा सुनने से पहले ही उसे और उसके दोनो सरकारी सुरक्षाकर्मियों को 24 फरवरी 2023 को गोली और बम मारकर हत्या कर दी गयी। इस मामले में अतीक अहमद, भाई अशरफ, पत्नी शाइस्ता परवीन, दोनो बेटे के अलावा नौ लोगों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराया गया था।

अतीक अहमद और भाई अशरफ को बुधवार की रात नैनी जेल में ही रखा जाएगा। उमेश पाल अपहरण मामले में भी अतीक और अशरफ को प्रयागराज लाया गया था और दोनों यहीं रखा गया था।