Sunday , February 5 2023

यहाँ टेक्नोलॉजी के माध्यम से दौड़ेंगे ई रिक्शा

रिपोर्टर :- अज़हर मलिक

जनपद उधम सिंह नगर में इन दिनों कोरोना वायरस की तरह ई-रिक्शा का वायरस फैलता हुआ दिखाई दे रहा है, ई रिक्शा के बढ़ते ग्राफ से छोटी-छोटी आपराधिक घटनाओं के साथ शहर में जाम की समस्या भी उत्पन्न हो रही है, बिना सत्यापन के दौड़ रहे रिक्शा प्रशासन के लिए चुनौती बने हुए हैं, जिसको लेकर अब प्रशासन की संयुक्त रूप से टीम बनाकर टेक्नोलॉजी के माध्यम से मुसाफिरों के लिए जहां सुरक्षित सफर का इन्तजाम किया है वहीं ई रिक्शा चालकों पर कानूनी शिकंजा कसने की तैयारी भी कर ली है, कैसे होगा सुरक्षित सफर और कैसे कसा जाएगा ई रिक्शा पर शिकंजा देखिये अज़हर मलिक की एक्सक्लूसिव रिपोर्ट।

सड़कों पर इन दिनों ई रिक्शा चालकों की बाढ़ सी आ गई है, हजारों की संख्या में ई-रिक्शा सड़कों पर दौड़ती हुई दिखाई दे रही हैं, जिसके चलते इनके मकडजाल में यातायात व्यवस्था भी पूरी तरह से चरमरा गयी है, सड़कों पर दौड़ती बिना सत्यापन की ई-रिक्शा से लोगों को काफी समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है जाम की समस्या हो या फिर जान की समस्या दोनों ही समस्याएं ई रिक्शाओं की वजह से शहर में तेजी से बढ़ती हुई दिखाई दे रही है, बिना सत्यापन के दौड़ रही है रिक्शा चालक मुसाफिरों के साथ भी कई बार बदसलूकी तक करते दिखाी देते हैं, और यात्रियों से मनमाना शुल्क वसूलते हैं, एसे में कॉलेज जाने वाली लड़किया और महिलाओं को सफर करना किसी जोखिम से कम नहीं , उन्हीं की सुरक्षा के लिए और सुरक्षित सफर के लिए परिवहन विभाग और पुलिस द्वारा समय-समय पर बिना सत्यापन के सड़कों पर दौड़ रही ई-रिक्शा ऊपर कारवाही भी की जाती है, लेकिन कार्यवाही से भी खासा फर्क देखने को नहीं मिलता है एसे में हरिद्वार की तर्ज पर परिवहन विभाग और पुलिस महकमे ने संयुक्त रूप से शहर में दौड़ रही सभी ई-रिक्शा पर शिकंजा कसने की तैयारी कर ली है, सड़कों पर दौड़ रही ई-रिक्शा की चेकिंग अभियान के दौरान सारे डाक्यूमेंट्स वैलिड होने पर उनको क्यूआर कोड दिया जाएगा.. सफर कर रहे यात्री क्यूआर कोड को स्कैन कर परिजनों तक पूरी जानकारी पहुंचा सकेंगे, और ई- रिक्शा किसके नाम पर रजिस्टर्ड है और रिक्शा चालक कौन है, ये सभी जानकारी यात्रियों को मिल सकेगी।

सड़कों पर दौड़ते ई रिक्शा का अब पूरा डाटा आपके मोबाइल में होगा, जिससे आप का सफर सुरक्षित और बेखौफ होगा, रिक्शा में सफर से पहले क्यूआर कोड के माध्यम से रिख्शे की पूरी जानकारी आपके मोबाइल में होगी, यही नहीं बिना दस्तावेजों के सड़कों पर दौड़ रही ई रिक्शा पर भी प्रशासन का इस टेक्निक के माध्यम से शिकंजा भी कसा जाएगा, जिससे यातायात व्यवस्था के साथ ही अनावश्यक वाहनों में कमी भी दर्ज होगी। जाम की समस्या से काफी हद तक निजात मिलेगी.. देखने वाली बात ये है कि संयुक्त रूप से तैयार हुई टीम कब इस पहल को अमलीजामा पहनाती है।