Breaking News

यूपी के दो जांबाज बेटों ने बढ़ाई देश की शान, फ्रांस से उड़ाकर लाए लड़ाकू विमान, दुश्मन की हालत खराब!

जिस पल का भारत को बेसब्री से इंतजार था उस पल को देखने के बाद भारत के लोग खुशी से नाच रहे हैं. बुधवार को ही 36 राफेल लड़ाकू विमानों की पहली खेप यानि 5 विमान भारत पहुंचे हैं. जिनसे भारतीय वायुसेना की ताकत को मजबूती मिली है. तो वहीं उत्तर प्रदेश का सिर गौरव से ऊंचा हो गया है क्योंकि, जिन ऐतिहासिक क्षणों के हम सब गवाह बने हैं उनके पीछे सबसे बड़ा हाथ प्रदेश के दो जांबाज बेटे- विंग कमांडर मनीष सिंह (wing commander manish singh) और अभिषेक त्रिपाठी (abhishek tripathi) का है. जो राफेल को उड़ाकर भारत लाए हैं. जिस दिन से जानकारी मिली थी कि, राफेल 29 जुलाई को भारत पहुंचेंगे उसी दिन से दोनों जांबाजो के गांव में खुशी की लहर थी. ऐसा लग रहा था मानो त्योहार का जश्न मनाया जा रहा है.

उत्तर प्रदेश का सिर गर्व से ऊंचा
यूपी के दो जांबाज बेटे राफेल को उड़ाकर भारत आ चुके हैं और विंग कमांडर मनीष सिंह का परिवार खुशी से नाच रहा है. विंग कमांडर मनीष के पिता मदन सिंह भी देशसेवा कर चुके हैं और पिता के बाद ही मनीषwing-commander-manish-singhने भारत की सेवा करने का फैसला लिया. पिता कहते हैं कि, मैं जब भी सोचता हूं कि मेरे बाद मेरा बेटा देशसेवा में दिन-रात डटा है तो मेरा सिर गर्व से ऊंचा हो जाता है. वहीं उनकी मां कहती हैं कि, बेटे की उपलब्धि से सिर्फ हमारा नहीं बल्कि पूरे प्रदेश व देश का नाम रोशन हुआ है.

Loading...

2002 में हुए थे शामिल
राफेल लड़ाकू विमान की ट्रेनिंग के लिए केंद्र सरकार ने मनीष को 6 महीने पहले ही फ्रांस भेज दिया था. जिससे वह आसानी से राफेल को उड़ाने में सक्षम हो जाए. इस दौरान उनके साथ वायुसेना के कई अन्य विंग कमांडर थे. मनीष प्रदेश के पूर्वांचल के बागी जिले बलिया से ताल्लुक रखते हैं.wing commander manish singh famliyसाल 2002 में ही मनीष ने पायलट की कमान संभाली थी. इसके बाद मनीष अलग-अलग जगहों पर अपनी ड्यूटी करते रहे और साल 2014 में लखनऊ की रहने वाली कंप्यूटर इंजीनियर वृत्तिका सिंह से इनकी शादी हो गई. दोनों का एक पुत्र है जो 7 साल का है. पिता की उपलब्धि पर बेटे को भी बहुत गर्व है.

हरदोई के रहने वाले हैं अभिषेक त्रिपाठी
राफेल की पहली खेप में से एक विमान को प्रदेश के हरदोई जनपद के संडीला कस्बे के मोहल्ला बरौनी के रहने वाली विंग कमांडर अभिषेक त्रिपाठी उड़ा रहे थे. इनके पिता फिलहाल जयपुर में रह रहे हैं.wing commander abhishek tripathiपर जब पिता को राफेल की जानकारी मिली और पता चला कि उनका सपूत राफेल भारत लेकर आएगा तो उनका सीना गर्व से चौड़ा हो गया. अभिषेक त्रिपाठी के परिवार में इस समय खुशी की लहर है. स्थानीय लोग परिजनों को बधाईयां दे रहे हैं.

Loading...
error: Content is protected !!
%d bloggers like this:
http://newsindialive.in/ Digital marketting agency/