Breaking News

यदि भारत-चीन के बीच हुआ युद्ध, तो जानिए किसकी मिसाइल है सबसे ज्यादा कारगर?

नई दिल्ली। भारत-चीन ( India-China Face Off ) के बीच विवाद लगातार बढ़ता ही जा रहा है। लद्दाख ( Ladakh ) के गलवान घाटी ( Galwan Valley ) में हिंसक झड़प के बाद दोनों देशों के बीच माहौल काफी गर्म है। वहीं, वास्तविक नियंत्रण रेखा ( LAC ) पर दोनों देशों ने सैन्य शक्ति बढ़ानी शुरू कर दी है। आलम ये है कि LAC पर चीन एयरफोर्स ( Air Force ) भी काफी करीब है। वहीं, बॉर्डर से सटे इलाकों मेॆं चीनी सैनिकों की सख्या भी काफी बढ़ गई है।

चीन को माकूल जवाब देने के लिए भारत तैयार

रिपोर्ट के मुताबिक, चीन ने बॉर्डर ( India-China Border ) इलाके में कई बेस भी तैयार किए हैं, जहां से उसके लड़ाई विमान लगातार उड़ान भर रहे हैं। वहीं, चीन की इस एक्टिविटी को देखते हुए भारत ने भी अपने एयर डिफेंस सिस्टम को अलर्ट कर दिया है। LAC पर भारत ने भी सैन्य शक्ति बढ़ा दी है और अगर चीन की ओर से कोई हरकत किया जाता है तो भारत भी माकूल जवाब देने के लिए तैयार है। रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत के पास ही दुनिया की बेस्ट एयर सिस्टम न हो, लेकिन अपनी ओर आने वाले हर मिसाइल को करारा जवाब दे सकता है। भारत का एडवांस्‍ड एयर डिफेंस (AAD) मिसाइल किसी भी एलियन ऑब्‍जेक्‍ट को उड़ाने में सक्षम है। इसी का हिस्‍सा है Akash मिसाइल। 720 किलो वजन वाला आकाश सुपरसोनिक स्पीड से चलती है और तीस किलोमीटर के दायरे में बैलिस्टिक मिसाइल्‍स को इंटरसेप्‍ट कर सकती है। इसके अलावा 18 किलोमीटर ऊंचाई तक मौजूद दुश्‍मन की मिसाइल को आकाश अपना निशाना बना सकता है।

चीन को जवाब देने के लिए भारत के पास कई मिसाइलें

Loading...

वहीं, पृथ्वी एयर डिफेंस (PAD) सिस्‍टम 80 से 120 किलोमीटर तक की रेंज में किसी मिसाइल्‍स को संभाल सकता है। यह सुपरसोनिक मिसाइल आसानी से 300 किलोमीटर से 2000 किलोमीटर रेंज वाली बैलिस्टिक मिसाइल्‍स को हवा में ही ढेर कर सकती है। इस मिसाइल में लॉन्‍ग रेंज का ट्रैकिंग रडार लगा है, जो किसी भी टारगेट को लॉक करने में मदद करता है। जमीन के साथ-साथ आसमान में भी भारत के पास युद्ध करने की क्षमता है। पिछले साल ही भारत ने 17 मार्च को ‘मिशन शक्ति’ सफलतापूर्व पूरा किया था।

बात अगर चीन की हो तो उसके पास HQ-9 भी टू-स्‍टेज मिसाइल है। इस मिसाइल का वजन करीब दो टन है और 7 मीटर लंबी है। HQ-9 चीन का मेन एयर डिफेंस सिस्‍टम है। इसके वारहेड की अधिकतम रेंज 200 किलोमीटर और स्‍पीड 4.2 मैच है। रूस की मदद से चीन ने इस मिसाइल को छोटा बना लिया है। हालांकि, इस मिसाइल में एक कमी है। मिसाइल का थ्रस्‍ट वेक्‍टर कंट्रोल एक साइड से नजर आता है। वहीं, HQ-18 मिसाइल सिस्‍टम की रेंज 100 किलोमीटर तक है।

कुछ मिसाइलें 150 किलोमीटर तक भी मार कर सकती है। इसका रडार एक साथ 200 टारगेट्स को डिटेक्‍ट कर सकता है। इसके अलावा चीन के पास S-400 Triumf की एक खेप भी मौजूद है। वहीं, इस साल फरवरी में रूस ने दूसरी खेप चीन को भेजी थी। यानी दोनों देशों के पास मजबूत एयर‍ डिफेंस सिस्‍टम है। हालांकि लॉन्‍च रेंज में भारत अभी थोड़ा चीन से पीछे है। लेकिन, भारत के पास जल्द ही S-400 आने वाली है, जिससे उसकी स्थिति और मजबूत हो जाएगी। इसके अलावा भारत के पास स्पाइडल और स्वदेशी अश्विन भी है, जो बेहद की खतरनाक है। ऐसा माना जा रहा है कि भारत जल्द ही चीन को सैन्य शक्ति के मामले में टक्कर दे सकता है।

Loading...
error: Content is protected !!
%d bloggers like this:
http://newsindialive.in/ Digital marketting agency/