Breaking News

एक्ट्रेस सोनाली बेंद्रे से शादी करना चाहते थे राज ठाकरे, जानें क्यों अधूरी रह गई थी दोनों की प्रेम कहानी

बॉलीवुड में कई ऐसी प्रेम कहानियां रहीं, जो समय के साथ परवान तो चढ़ीं लेकिन अपने उस मुकाम पर नहीं पहुंच पाईं, जहां के सपने वो हर रोज देखा करती थीं. दरअसल आज महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के अध्यक्ष राज ठाकरे का जन्मदिन है. अपने विवादित बयानों के चलते हमेशा से ही सुर्खियों में रहने वाले राज ठाकरे, बाल ठाकरे की परछाईं कहे जाते हैं. लेकिन उनकी राजनीतिक जिंदगी के अलावा अगर पर्सनल लाइफ की बात करें तो वो भी काफी दिलचस्प है. एक समय था जब राज ठाकरे खुद को बाल ठाकरे का उत्तराधिकारी मानते थे. लेकिन उनकी जिंदगी में एक ऐसा दौर आया जब वो शिवसेना से अचानक अलग हो गए, और खुद की पार्टी बनाई. इस राजनीतिक दल के साथ वो उस मुकाम को तो हासिल नहीं कर पाए, जिसके लिए अलग हुए थे. लेकिन उनकी निजी जिंदगी कैसी रही, इसके बारे में बहुत कम लोग ही जानते हैं. तो चलिए आपको भी उनकी पर्सनल लाइफ से जुड़े कुछ अनसुने किस्से बताते हैं.

सोनाली बेंद्रे से शादी करना चाहते थे राज
कहते हैं कि 90 के दशक की बात है, जब महाराष्ट्र के साथ मुंबई में भी बाला साहेब ठाकरे का बोलबाला था. उस दौर में ही राज ठाकरे और एक्ट्रेस सोनाली बेंद्रे की प्रेम कहानी की खबर तेजी से सुर्खियों में आई. वो समय ऐसा था जब सोनाली को लाखों लोग चाहते थे. इसी में एक राज ठाकरे भी थे. जिनका दिल सोनाली के लिए धड़कने लगा था. दोनों की प्रेम कहानियों के चर्चे बॉलीवुड से लेकर सियासत में भी चरम पर थे.raj thakre Sonali Bendre loveकहते हैं कि दोनों ही एक-दूसरे से बहुत प्यार करते थे. इतना ही नहीं अपनी प्रेम कहानी को मुकाम पर पहुंचाने के लिए शादी भी करना चाहते थे. लेकिन मामला वहां फंसा जब ये बात सामने आई कि राज पहले से ही शादीशुदा थे.

Loading...

बाल ठाकरे ने दोनों के रिश्ते से कर दिया था इनकार
इस दौरान जब राज ठाकरे और सोनाली के प्रेम कहानियों की खबर शिवसेना सुप्रीमो बाल ठाकरे को लगी तो इसे लेकर उन्होंने राज ठाकरे को साफ शब्दों में कहा कि वो इस रिश्ते को भूल जाएं.raj thakre-bal thakreसाथ ही बाल ठाकरे ने राज को ये भी स्पष्ट कर दिया कि शादीशुदा होते हुए यदि वो दूसरी शादी किए तो इससे सिर्फ परिवार की ही छवि पर नहीं बल्कि उनकी पार्टी पर भी गलत असर पड़ेगा. यहां तक कि उनके खुद के भी राजनीतिक करियर पर इसका बुरा असर होगा.राजनीति में देनी पड़ी प्यार की कुर्बानी
जब ताऊ बाल ठाकरे ने राज ठाकरे को ये सारी बातें कही, तो वो अपने प्यार को भी तोड़ने के लिए तैयार हो गए. उस दौरान मीडिया रिपोर्ट्स के हवाले से जानकारी मिली की इसके बाद भी सोनाली और राज के बीच काफी समय तक अफेयर रहा! कहते हैं कि शिवसेना सुप्रीमो बाल ठाकरे की बात को राज ठाकरे उस समय इसलिए भी नहीं मना कर पाए थे क्योंकि उन्हें लगता था कि बाला साहेब के बाद उनकी पार्टी की कमान वही संभालेंगे.यही एक वजह थी कि वो अपने ताऊ के किए हुए फैसले के खिलाफ नहीं गए, और प्यार-राजनीति के बीच उन्होंने सत्ता को चुना. लेकिन जब शिवसेना पार्टी की सारी बाग-डोर उद्धव ठाकरे को दी गई तो राज ठाकरे काफी ज्यादा नाराज हुए, और उन्होंने शिवसेना का दामन छोड़ते हुए अपनी एक अलग पार्टी बना ली.

Loading...
error: Content is protected !!
%d bloggers like this:
http://newsindialive.in/ Digital marketting agency/