Breaking News

कोरोना वायरस: भारत ने चीन के खिलाफ खोला मोर्चा, साथ आए पूरी दुनिया के 62 देश

कोरोना के खिलाफ जंग में लगातार अमेरिका ने चीन के खिलाफ मोर्चा खोल रखा है। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप लगातार चीन से प्रतिशोध लेने की बात कह रहे हैं। यहीं नहीं, उन्होंने कोरोना वायरस को साजिश करार देते हुए इसकी बकायदा जांच करने की भी बात कही है। वहीं अमेरिका के बाद अब भारत ने भी चीन के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। अब चीन के खिलाफ अपना मुंह खोलने से परहेज करने वाले भारत ने भी अब ट्रंप का समर्थन करते हुए कोरोना वायरस की बकायदा जांच कराने की बात कही है।

बता दें कि केंद्रीय सड़क एवं परिवहन मंत्री नीतीन गडकरी ने बयान जारी कर कहा कि यह वायरस प्राकृतिक नहीं बल्कि इसे चीन के लैब में तैयार किया गया है। बताया जा रहा है कि यह गडकरी की अपनी निजी राय हो सकता है। संभवत: इससे भारत सरकार इत्तेफाक न रखे, मगर यहां गौर करने वाली बात यह है कि डब्लूएचओ की बैठक के लिए ड्राफ्ट प्रस्ताव के अनुसार भारत ने उस जांच का समर्थन किया है, जिसमें इसका पता लगाना है कि कोरोना वायरस जानवरों से इंसान में कैसे आया और विश्व स्वास्थ्य संगठन की इस महामारी को लेकर भूमिका कितनी निष्पक्ष रही। बता दें कि अभी तक विश्व के 62 देश इस जांच का समर्थन कर चुके हैं।

Loading...

हालांकि इससे पहले यूरोप के कई अन्य देशों मसलन आस्ट्रेलिया की तरफ से भी इसकी निष्पक्ष जांच की मांग उठती रही है। वहीं अब औपचारिक तौर पर भारत ने भी इसकी जांच का समर्थन कर दिया है। इससे पहले पीएम मोदी ने भी जी-20 की बैठक में विश्व स्वास्थ्य संगठन में सुधार और पारदर्शिता की बात कही थी। वहीं अमेरिका लगातार डब्लूएचओ पर कोरोना  वायरस को  लेकर चीन का बचाव करने का आरोप लगा रहा है, जिसके चलते ट्रंप ने बीते दिनों डब्लूएचओ की फंडिंग पर रोक लगाने की भी बात कही थी। उन्होंने कहा था कि डब्लूएचओ को सबसे ज्यादा फंड हम देते हैं, मगर अब इसकी फंडिंग को रोक दिया जाएगा। मालूम हो बीते दिनों खुद डब्लूएचओ ने चीन का पक्ष लेते हुए बयान जारी कर कहा था कि कोरोना वायरस एक प्राकृतिक विपदा है, जबकि अमेरिका सहित शेष विश्व का कहना है कि इसे चीन के लैब में तैयार किया गया है।

Loading...
error: Content is protected !!
http://newsindialive.in/ Digital marketting agency/