Breaking News

अमेरिका का चीन पर एक और बड़ा आरोप, चीनी हैकरों पर रिसर्च चुराने के साथ लगाए कई आरोप

कोरोना महामारी जैसे-जैसे भयावह रूप ले रही है, उसी के साथ ही अमेरिका और चीन की तकरार बढ़ती जा रही है. कई दिनों से चीन-अमेरिका सैन्य तकनीकों और सुरक्षा दस्तावेजों की चोरी करने का आरोप एक-दूसरे पर लगाते आ रहे हैं. इसी बीच अब अमेरिका ने एक और बड़ा आरोप लगाया है. दरअसल अमेरिका का कहना है कि चीन अमेरिका में चल रही महामारी के रिसर्च को चुराने में लगा हुआ है. जिसके लिए अब अमेरिकी के खुफिया और गृह (होमलैंड) मंत्रालय चेतावनी देने की भी तैयारी तेजी से कर रहा है. हालांकि काफी दिनों से अमेरिका और चीन के बीच बढ़ती दूरियों की वजह कोरोना वायरस का भयावह रूप है. जिसकी शुरूआत चीन के वुहान से हुए और अब इस वायरस ने पूरी दुनियाभर में तांडव मचा दिया है.

अमेरिका का आरोप है कि चीन के सबसे ज्यादा कुशल हैकर्स उनके कोवि-19 पर चल रहे शोध को चुराने के लिए अमेरिका पर साइबर हमले और भी ज्यादा बढ़ा रहे हैं. ऐसे में इस गतिविधि को देखने के बाद अमेरिका के एफबीआई और होमलैंड सुरक्षा मंत्रालयों ने इस मामले पर बड़ी कार्रवाई की तैयारी कर ली है.trumpजिसके आधार पर प्रीमियर चिकित्सा अनुसंधान केंद्रों से लेकर विश्वविद्यालयों, शोध विभागों और अस्पतालों तक में घातक वायरस का इलाज खोजने में जितनी एजेंसियां शामिल हैं उन्हें इस बारे में सतर्क किया जाएगा.

Loading...

हालांकि चीन पर अमेरिका की तरफ से लागाया गया ये पहला आरोप नहीं है. इससे पहले भी अमेरिका ने चीन पर कई आरोप लगाए हैं और साथ में ही WHO को चीन का साथ देने का भी आरोप लगाया है. दरअसल इस समय अमेरिका में कोरोना के सबसे ज्यादा मरीज हैं और सबस् ज्यादा लोगों की मौत भी यहीं हुई है. ऐसे में डोनाल्ड ट्रंप ने चीन के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है. उनका कहना है कि इस वायर का जिम्मेदार चीन ही है. यदि वो चाहता तो इउसको समय पर रोक सकता था. लेकिन इतनी भयावह बीमारी उसने दुनिया से छिपाई. फिलहाल अमेरिका ने अभी तक चीन के खिलाफ ऐसा कोई सबूत नहीं दिया है, जिससे ये साबित हो सके कि ये वायरस चीन के लैब में बनाया गया है. लेकिन ये दावा अमेरिका तरफ से कई बार किया जा चुका है कि ये बीमारी चीन के लैब में बनी गई है.

error: Content is protected !!
%d bloggers like this:
http://newsindialive.in/ Digital marketting agency/