Breaking News

आज से प्रारम्भ हुआ चैत्र नवरात्रि, यहाँ जानिए शुभ मुहूर्त और नौ देवियों को खुश करने के मंत्र

आज से चैत्र नवरात्रि का प्रारम्भ हो गया हैं। नवरात्र के नौं दिन भक्त मां की अराधना करते है। माता के मंदिरों में श्रद्धालुओं की भीड़ लगी रहती है। आज बहुत से लोग कलश स्थापना करते है। इन नौ दिनों में माता के भक्त मां के नौ रुपों की पूजा करते हैं। बता दें, नवरात्र साल में दो बार आते हैं लेकिन दोनों नवरात्रों का अपना एक अलग महत्व और पूजा विधि होती है। इस वर्ष चैत्र नवरात्रि पर कई शुभ योग बन रहे हैं।

चैत्र नवरात्रि के लिए घटस्‍थापना आज होगी। घट-स्थापन का पहला लग्न द्विस्वभाव सुबह 6.15 से 7.19 बजे तक रहेगा। दूसरा वृष लग्न (स्थिर लग्न) सुबह 8.45 से 10.40 बजे तक रहेगा। यदि कोई इन दोनों लग्नों में घट-स्थापन नही कर पाए तो वे वे तीसरे लग्न अभिजीत मुहूर्त 11.30 से दोपहर 12.46 बजे तक के बीच मे भी पूजा कर सकते हैं।

हिन्दी पंचांग के मुताबिक भारतीय नववर्ष की शुरू भी चैत्र प्रतिपदा से होती है। इसके अलावा चैत्र महीने में ही नव संवत्सर की भी शुरुआत होती है, वहीं रामनवमी 2 अप्रैल को मनाई जाएगी।

प्रतिपदा तिथि का प्रारंभ 24 मार्च, मंगलवार को दोपहर 2 बजकर 57 मिनट से शुरू हो जाएगा। घटस्थापना का मुहूर्त 25 मार्च, बुधवार को सुबह 6 बजकर 19 मिनट से 7 बजकर 17 मिनट तक है। मीन लग्न सुबह 6 बजकर 19 मिनट से 7 बजकर 17 मिनट तक रहेगा।

नौ देवियों के बीज मंत्र

शैलपुत्री: ह्रीं शिवायै नम:।

ब्रह्मचारिणी: ह्रीं श्री अम्बिकायै नम:।

Loading...

चन्द्रघण्टा: ऐं श्रीं शक्तयै नम:।

कूष्मांडा: ऐं ह्री देव्यै नम:।

स्कंदमाता: ह्रीं क्लीं स्वमिन्यै नम:।

कात्यायनी: क्लीं श्री त्रिनेत्रायै नम:।

कालरात्रि: क्लीं ऐं श्री कालिकायै नम:।

महागौरी: श्री क्लीं ह्रीं वरदायै नम:।

सिद्धिदात्री: ह्रीं क्लीं ऐं सिद्धये नम:।

Loading...
error: Content is protected !!
%d bloggers like this:
http://newsindialive.in/ Digital marketting agency/