Breaking News

Delhi Election Results 2020: ओखला से अमानतुल्लाह पीछे, जानिए कौन कहाँ से चल रहा है आगे

 दिल्ली विधानसभा चुनाव के नतीजे आ रहे हैं. ऐसे में लोगों की नजर दिल्ली की 8 मुस्लिम बहुल विधानसभा सीटों पर है. दिल्ली में इन सीटों पर सीएए के खिलाफ प्रदर्शन किए जा रहे हैं. ओखला विधानसभा क्षेत्र के तहत आने वाले शाहीन बाग में तो पिछले 58 दिनों से महिलाएं रात-दिन धरने पर बैठी हैं. बीजेपी ने अपने चुनाव प्रचार में शाहीन बाग को मुद्दा बनाया था तो अरविंद केजरीवाल ने मुस्लिम बहुल इलाकों से पूरे चुनाव प्रचार में दूरी बनाकर रखी थी. वहीं, कांग्रेस शाहीन बाग के समर्थन में खड़ी रही थी.

दिल्ली में मुस्लिम बहुल सीटें

दिल्ली की सियासत में मुस्लिम मतदाता 12 फीसदी के करीब हैं. दिल्ली की कुल 70 में से 8 विधानसभा सीटों को मुस्लिम बहुल माना जाता है, जिनमें बल्लीमारान, सीलमपुर, ओखला, मुस्तफाबाद, चांदनी चौक, मटिया महल, बाबरपुर और किराड़ी  सीटें शामिल हैं. इन विधानसभा क्षेत्रों में 35 से 60 फीसदी तक मुस्लिम मतदाता हैं. साथ ही त्रिलोकपुरी और सीमापुरी सीट पर भी मुस्लिम मतदाता काफी महत्वपूर्ण माने जाते हैं.

ओखला:

दिल्ली की ओखला की सीट पर AAP के मौजूदा विधायक अमानतुल्ला खान के सामने कांग्रेस से पूर्व विधायक परवेज हाशमी मैदान में है. वहीं, बीजेपी से ब्रह्म सिंह किस्मत आजमा रहे हैं. 2015 में AAP ने यहां पर जीत दर्ज की थी. शुरुआती रुझान में अमानतुल्ला खान पीछे चल रहे हैं.

मटिया महल:

मटिया महल सीट से AAP से शोएब इकबाल तो कांग्रेस के एम मिर्जा आमने-सामने हैं तो बीजेपी से रविंदर गुप्ता किस्मत आजमा रहे हैं. 2015 में इस सीट पर आम आदमी पार्टी से असीम अहमद ने जीत दर्ज की थी. आम आदमी पार्टी के शोएब इकबाल आगे चल रहे हैं.

बल्लीमरान :

बल्लीमरान सीट से कांग्रेस के हारुन यूसुफ के सामने AAP  से इमरान हसन मैदान में हैं तो बीजेपी से लता सोढ़ी किस्मत आजमा रही हैं. 2015 में AAP से इमरान हसन ने जीत दर्ज की थी. इस बार बीजेपी के लता सोढ़ी आम आदमी पार्टी से आगे चल रही हैं.

सीलमपुर:

Loading...

सीलमपुर सीट से कांग्रेस के पूर्व विधायक चौधरी मतीन के खिलाफ AAP के अब्दुल रहमान मैदान में हैं. यहां बीजेपी से कौशल मिश्रा मैदान में है.

मुस्तफाबाद:

मुस्तफाबाद सीट से कांग्रेस के अली मेंहदी के खिलाफ आम आदमी पार्टी से हाजी युनूस मैदान में हैं. यहां बीजेपी के जगदीश प्रधान किस्मत आजमा रहे हैं. 2015 में बीजेपी ने इस सीट पर जीत दर्ज की थी.

किराड़ी:

किराड़ी विधानसभा सीट पर कांग्रेस की सहयोगी आरजेडी ने मोहम्मद रियाजुद्दीन को उतारा है. वहीं, आम आदमी पार्टी ने रितुराज गोविंद और बीजेपी से अनिल झा किस्मत आजमा रहे हैं.

बाबरपुर:

बाबरपुर विधानसभा सीट पर बीजेपी से नरेश गौर, आम आदमी पार्टी से गोपाल राय और कांग्रेस से अनवीक्षा दीक्षित मैदान में हैं. 2015 में आम आदमी पार्टी से गोपाल राय विधायक चुने गए थे.

बता दें कि दिल्ली में बीजेपी ने एक भी मुस्लिम प्रत्याशी को मैदान में नहीं उतारा है. वहीं, कांग्रेस और आम आदमी पार्टी की ओर से पांच-पांच प्रत्याशी मुस्लिम मैदान में उतरे हैं और दोनों पार्टियों ने एक दूसरे के खिलाफ इन्हें उतारने का दांव लगाया है. इसके चलते इन मुस्लिम बहुल सीटों का मुकाबला काफी दिलचस्प हो गया है.

2015 के नतीजे

बता दें कि 2015 के विधानसभा चुनाव में मुस्लिम समुदाय की दिल्ली में पहली पसंद AAP बनी थी. इसका नतीजा रहा कि मुस्लिम बहुल सीटों पर आम आदमी पार्टी के उम्मीदवारों ने कांग्रेस के दिग्गजों को करारी मात देकर कब्जा जमाया था. आम आदमी पार्टी ने सभी मुस्लिम बहुल इलाकों में जीत का परचम फहराया था. केजरीवाल की पार्टी से जीते चार मुस्लिम विधायकों में से एक मुस्लिम विधायक को मंत्री बनाया था. इससे पहले 2013 में कांग्रेस से भी चार मुस्लिम विधायक चुने गए थे.

error: Content is protected !!
%d bloggers like this:
http://newsindialive.in/ Digital marketting agency/