Breaking News

सौभाग्य योग में लाखों ने किया संगम में पुण्य स्नान

उत्तर प्रदेश की संगम नगरी प्रयागराज में माघी पूर्णिमा के अवसर पर सौभाग्य योग में लाखों श्रद्धालुओं ने पतित पावनी एवं मोक्ष दायिनी गंगा, श्यामल यमुना और अन्त: सलिला स्वरूप में प्रवाहित त्रिवेणी में पुण्य स्नान का लाभ लिया।

प्रशासन ने करीब 25 लाख श्रद्धालुओं के स्नान करने की संभावना व्यक्त किया है। तीर्थराज प्रयाग में माघ मास के पांचवे स्नान पर्व “माघी पूर्णिमा” के अवसर पर प्रात: आठ बजे तक करीब पांच लाख श्रद्धालुओं ने संगम में आस्था की डुबकी लगायी। माघ मेला में प्रयागराज में लघु भारत का दर्शन होता है। अनेकता में एकता का बोध भी होता है जब श्रद्धालु एक साथ संगम में बिना भेद-भाव के आस्था की डुबकी लगाते हैं।

मेला क्षेत्र की 174 सीसीटीवी कैमरों और ड्रोन से पल-पल की निरानी की जा रही है। आतंकी गतिविधियों पर निगरानी के लिए एटीएस और एसटीएफ की टीमें सक्रिय हैं। इसके अलावा बड़ी संख्या में पुलिस, पीएसी, आरएएफ के जवान समेत पुलिस और निजी गोताखोर स्नान घाटों पर तैनात किये गये है। जल पुलिस लगातार स्टीमर से श्रद्धालुओं से निर्धारित सीमा से आगे बढ़कर स्नान नहीं करने की चेतावनी देते चक्रमण कर रहे हैं।

Loading...

संगम के विस्तीर्ण रेती पर तंबुओं की बसी आध्यात्मिक नगरी “माघमेला” में विभिन्न भाषाओं, संस्कृतियों के संगम का अद्भुत नजारा देखने को मिलता है। बुजुर्ग, युवा बच्चे, महिला, गरीब और अमीर श्रद्धालु बिना किसी भेदभाव के संगम में ‘ओं नम: शिवाय, हर-हर गंगे और हर हर महादेव का जयघोष करते आस्था की डुबकी लगा रहे हैं। स्नान के बाद महिलाएं सूर्य को अरग दे रहीं हैं, जल चढा रही हैं,कोई परिवार की सुखद कामना के साथ गंगा मां को दीपक तो कोई पुष्प और दुगध अर्पण कर रहा है।

प्रशासन के मनाही के बावजूद भी महिलाएं घाट पर स्नान के बाद घाट पर धूप और अगरबत्ती सुलगा कर पूजा कर रही हैं।

error: Content is protected !!
%d bloggers like this:
http://newsindialive.in/ Digital marketting agency/