Breaking News

भक्तों के साथ जब भगवान पहुंचे कोर्ट, जज ने पहले किया प्रणाम, फिर सुनाया आदेश

भोपाल। करीब दस साल पहले प्रसिद्ध बिहारीजू महाराज मंदिर से मूर्तियों की चोरी मामले में बुधवार को स्वयं भगवान कोर्ट में पेश हुए। घटना के बाद चोरों के मूर्तियों के साथ पकड़े जाने के इस मामले में भगवान को साक्ष्य के रूप में पेश होना था। भक्तों के साथ जब भगवान कोर्ट पहुंचे तो जज ने पहले उन्हें नमन किया बाद में सत्यापन कर मूर्तियों को मंदिर में स्थापित करने का आदेश दिया। यह मामला है प्रदेश के टीकमगढ़ जिले के पृथ्वीपुर थाना अंतर्गत ग्राम पंचायत वीरसागर का।

जानकारी के अनुसार थाना सिमरा मे राधाकृष्ण का प्राचीन मंदिर है। सन 14 जनवरी 2009 में बिहारी जू मंदिर की मूर्तियां चोरी हुई थी जिसकी रिपोर्ट पुलिस थाना में दर्ज की थी। चार आरोपितों के विरुद्ध मामला भी पंजीकृत किया गया। पुलिस ने मामले का खुलासा किया और मूर्तियों की बरामदगी भी की गई जिन्हें मंदिर के पुजारी के सुपुर्द कर दी गई थी। आगे की कार्यवाही के लिए प्रकरण न्यायालय निवाड़ी में पेश किया गया। न्यायालय ने भगवान को अदालत में बुला लिया।

Loading...

न्यायालय के आदेशानुसार बुधवार को सुबह से ही बिहारी जू मंदिर के भगवान साक्ष्य के लिए न्यायालय पहुंचने से पहले से ही मंदिर पर पूजा पाठ कर भगवान की आरती के बाद बिहारी जू महाराज को ग्राम वीरसागर होते हुए लाया गया। इनके साथ काफी संख्या में ग्रामीणजन साथ रहे। अदालत में जज की कुर्सी पर बैठे न्यायाधीश ने पहले भगवान बिहारीजू को नमन किया और बारीकी से जानकारी ली और न्यायालीन कार्रवाई के बाद पुन: बिहारी जू भगवान वीरसागर पहुंचे।

इस मामले में शासकीय अभियोजक अधिकारी विकास गर्ग ने बताया कि चोरी गई मूर्ति बरामद हुई थीं, इसलिए न्यायालय में साक्ष्य के रूप में प्रदर्शित होना था। न्यायधीश ने भगवान की मूर्तियों का सत्यापन कर मूर्तियों को यथास्थान रखने का आदेश न्यायालय द्वारा दिया गया।चार आरोपितों के विरुद्ध मामला भी पंजीकृत किया गया। पुलिस ने मामले का खुलासा किया और मूर्तियों की बरामदगी भी की गई जिन्हें मंदिर के पुजारी के सुपुर्द कर दी गई थी।

Loading...
error: Content is protected !!
%d bloggers like this:
http://newsindialive.in/ Digital marketting agency/