Breaking News

अयोध्या पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले को चुनौती नहीं देगा सुन्नी वक्फ बोर्ड

रामजन्मभूमि बाबरी मस्जिद विवाद के अहम पक्षकार रहे उत्तर प्रदेश सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड उच्चतम न्यायालय के निर्णय का स्वागत करते हुए शनिवार को कहा कि बोर्ड इस फैसले को चुनौती देने के मूड में नहीं है। बोर्ड के अध्यक्ष जुफर फारूकी ने कहा कि वह अदालत के निर्णय का स्वागत करते हैं और बोर्ड का इस फैसले को चुनौती देने का कोई विचार नहीं है। अगर कोई वकील या अन्य व्यक्ति बोर्ड की तरफ से अदालत के फैसले को चुनौती देने की बात कह रहा है तो उसे सही न माना जाए।

गौरतलब है कि सुन्नी वक्फ बोर्ड के वकील जफरयाब जिलानी ने दिल्ली में हुई प्रेस कांफ्रेंस में कहा था कि अयोध्या मामले में उच्चतम न्यायालय के निर्णय को चुनौती दी जाएगी। हालांकि जिलानी ने बाद में स्पष्ट किया कि वह आल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड की प्रेस कांफ्रेंस थी और उन्होंने वह बात इसी बोर्ड के सचिव की हैसियत से कही थी, न कि वक्फ बोर्ड के वकील की हैसियत से। फारूकी ने कहा कि वक्फ बोर्ड फिलहाल अदालत के निर्णय का अध्ययन कर रहा है।

Loading...

उसके बाद इस पर विस्तृत बयान देगा। ज्ञातव्य है कि बोर्ड ने अयोध्या मामले में गठित मध्यस्थता समिति को पिछले माह प्रस्ताव दिया था कि वह कुछ शर्तों के आधार पर विवादित स्थल से अपना दावा छोडऩे को तैयार है। फारूकी ने कहा था कि उन्होंने देशहित में यह प्रस्ताव दिया है। उच्चतम न्यायालय ने शनिवार को अपने बहुप्रतीक्षित फैसले के तहत अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण का रास्ता साफ करते हुए सरकार को निर्देश दिया कि वह अयोध्या में मस्जिद निर्माण के लिये किसी प्रमुख स्थान पर पांच एकड़ जमीन दे। न्यायालय ने केंद्र को मंदिर निर्माण के लिये तीन महीने में योजना तैयार करने और न्यास बनाने का निर्देश दिया।

Loading...
Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!