Breaking News

अमेठी में बनने जा रही दुनिया की ये सबसे घातक रायफल्स, एक मिनट में बरसायेगी 600 गोलियाँ

अमेठी : अमेठी पहले कांग्रेस का गढ़ माना जाता था लेकिन 2019 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस के किले को ढहा कर स्मृति रानी ने बीजेपी का परचम लहराया. दोस्तों आपको बता दे कि  AK-203 राइफल्स के निर्माण को मोदी सरकार ने रूस की एक कंपनी के साथ करार किया है जो कि जॉइंट वेंचर के रूप में करीब 7.50 लाख असॉल्ट राइफलों का निर्माण करेगी. इन राइफलों को भारतीय सेना के जवानों को इस्तेमाल के लिए दिया जाएगा. यूपी के अमेठी जिले में जल्द ही दुनिया की इस सबसे घातक AK-203 राइफल्स का निर्माण शुरू हो जाएगा. मेक इन इंडिया के तहत अमेठी राइफल फैक्ट्री में 6.7 लाख AK-203 राइफल्स का निर्माण किया जाएगा. सेना तकनीकी शर्तों को मंजूरी देने जा रही है और अगले महीने तक व्यावसायिक बोली दाखिल कर दी जाएगी. इसके बाद अमेठी में राइफलों के निर्माण का रास्ता साफ हो जाएगा.

बताया जा रहा है कि इंडो-रसियन राइफल प्राइवेट लिमिटेड जॉइंट वेंचर के साथ AK-203 राइफलों को बनाने का करार होगा. बता दें कि इस साल मार्च में अमेठी की फैक्ट्री का औपचारिक उद्घाटन हुआ था लेकिन अभी राइफल बनाने का ऑर्डर नहीं मिला है. बताया जा रहा है कि रूस इस अत्याधुनिक राइफल की पूरी तकनीक भारत को ट्रांसफर करेगा. प्रारंभिक चरण में सेना के लिए 6.7 लाख राइफलें बनाई जाएंगी. इसके बाद अर्द्धसैनिक बलों को भी यह राइफल दी जा सकती है. इससे राइफलों की कुल संख्या 7.5 लाख को पार कर सकती है.

Loading...

ऐसी योजना है कि एक लाख राइफलों के जरूरी उपकरणों को रूस से लाया जाएगा और इसके बाद इसे भारत में ही बनाया जाएगा. अमेठी फैक्ट्री में इस राइफल को बनाने की तैयारी शुरू हो गई है. सेना के एक मेजर जनरल को इस पूरे प्रोजेक्ट का हेड बनाया गया है. बताया जा रहा है कि एक AK-203 राइफल करीब 1000 डॉलर की पड़ेगी. बेहद खास है AK-203 रूस निर्मित AK-203 राइफल दुनिया की सबसे आधुनिक और घातक राइफलों में से एक है.

इसके आने पर सेना को अक्सर जाम होने वाली इंसास राइफलों से मुक्ति मिल जाएगी. AK-203 बेहद हल्की और छोटी है जिससे इसे ले जाना आसान है. इसमें 7.62 एमएम की गोलियों का इस्तेमाल किया जाता है. यह राइफल एक मिनट में 600 गोलियां या एक सेकंड में 10 गोलियां दाग सकती है. इसे ऑटोमेटिक और सेमी ऑटोमेटिक दोनों ही मोड पर इस्तेमाल किया जा सकता है. इसकी मारक क्षमता 400 मीटर है. सुरक्षाबलों को दी जाने वाली इस राइफल को पूरी तरह से लोड किए जाने के बाद कुल वजन 4 किलोग्राम के आसपास होगा.

Loading...
Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!