Breaking News

महालक्ष्मी एक्सप्रेस से सुरक्षित निकाले गए यात्री, राहत टीमों ने युद्धस्तर पर चलाया बचाव कार्य

मुंबई में भारी बारिश के कारण बदलापुर के पास ट्रैक पर पानी भरने से महालक्ष्मी एक्सप्रेस फंस गई थी. इस ट्रेन में करीब 900 यात्री मौजूद थे. इन यात्रियों का अब पूरी तरह से सुरक्षित रेस्क्यू कर लिया गया है. गृह मंत्री अमित शाह NDRF, नेवी और एयरफोर्स के इस काम से काफी खुश नजर आ रहे हैं.

गृहमंत्री अमित शाह ने घटना पर कहा कि एनडीआरएफ, नौसेना, भारतीय वायुसेना, रेलवे और राज्य प्रशासन की टीमों ने यात्रियों को सुरक्षित बचाया है. पूरे ऑपरेशन की हम बारीकी से निगरानी कर रहे थे. बचाव टीमें इसके लिए बधाई के पात्र हैं.

Loading...

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने मुख्य सचिव को व्यक्तिगत रूप से बचाव कार्यों के बाद निगरानी करने का निर्देश दिया. एनडीआरएफ के महानिदेशक एस एन प्रधान ने बचाव अभियान पर कहा, “9 गर्भवती महिलाओं सहित महिलाओं और बच्चों को पहले निकाला गया, उसके बाद बुजुर्ग लोगों को निकाला गया और अंत में पुरुष यात्रियों को. ऑपरेशन लगभग 8 घंटे  तक चला, लगभग 900 यात्रियों को सुरक्षित निकाल लिया गया है.”

दरअसल, मुंबई और निकटवर्ती इलाकों में मूसलाधार बारिश होने के कारण बाढ़ जैसी स्थिति पैदा हो गई है. भारी बारिश के कारण रेल पटरियां पानी में डूब गई. इस दौरान पानी में डूबने से ‘महालक्ष्मी एक्सप्रेस’ ठाणे जिले में बदलापुर के पास फंस गई. इसके बाद आनन-फानन में अधिकारियों ने राहत एजेंसियों की मदद से बचाव अभियान शुरू किया.

यात्रियों को बचाने के लिए नौसेना की 8 टीमों को लगाया गया था. इसमें गोताखोरों की तीन टीम भी शामिल थी. इन टीमों को बचाव सामग्री, नौका और जीवन रक्षक जैकेट के साथ रवाना किया गया. हालात का जायजा लेने के लिए एक हेलिकॉप्टर को भी मौके पर भेजा गया. ट्रेन मुंबई से लगभग 55 किलोमीटर की दूरी पर बदलापुर और वानगनी के बीच फंसी थी

Loading...
Loading...
error: Content is protected !!