Breaking News

बर्फ के नीचे दबे पर्वतारोहियों के शवों को निकालने के लिए बेस कैंप हुए रवाना

हेलीकॉप्टर से नंदा देवी बेस कैंप में  टीम और जरूरी सामान शनिवार को पहुंचाया जाएगा। हेलीकॉप्टर को उतारने के लिए शुक्रवार को सर्वे कर स्थल चयन कर लिया गया है। आईटीबीपी के पर्वतारोहियों के उपकरण और आवश्यक सामग्री को नंदा देवी बेस कैंप तक पहुंचाने के लिए शुक्रवार की सुबह नैनीसैनी हवाई पट्टी पर वायुसेना का एमआई 17 हेलीकाप्टर पहुंच भी गया है।

13 मई को मुनस्यारी से नंदादेवी ईस्ट के लिए रवाना हुए 13 सदस्यीय दल में से ब्रिटेन निवासी मार्टिन मोरिन, जोन चार्लिस मैकलर्न, रिचर्ड प्याने, रूपर्ट वेवैल, अमेरिका के एंथोनी सुडेकम, रोनाल्ड बीमेल, आस्ट्रेलिया की महिला पर्वतारोही रूथ मैकन्स और इंडियन माउंटेनियरिंग फेडरेशन के जनसंपर्क अधिकारी चेतन पांडेय पर्वतारोहण के दौरान हिमस्खलन की चपेट में आने से लापता हो गए थे। सर्च अभियान के दौरान बर्फ में पांच शव दिखाई दिए थे। जिस स्थान पर शव पड़े थे वहां खतरनाक दर्रे होने से सेना के हेलीकॉप्टर से इन्हें निकालने का प्रयास सफल नहीं हो सका था।

Loading...
अब शवों को निकालने के लिए आईटीबीपी के जवानों की 18 सदस्यीय टीम पैदल भेजी गई है। शुक्रवार को आईटीबीपी के पर्वतारोहियों के उपकरण और आवश्यक सामग्री को नंदा देवी बेस कैंप तक पहुंचाने के लिए नैनीसैनी हवाई पट्टी पर वायुसेना का एमआई 17 हेलीकाप्टर पहुंचा।
इसके बाद वायु सेना के अधिकारियों ने जिलाधिकारी, पुलिस अधीक्षक और आईटीबीपी के अधिकारियों के साथ बैठक कर अभियान पर चर्चा की। बाद में वायु सेना के अधिकारियों ने नंदा देवी ट्रेक रूट का हवाई सर्वेक्षण किया।सर्वेक्षण के बाद वायुसेना के विंग कमांडर बीडीएसके जेनामनी ने बताया कि नंदा देवी बेस कैंप द्वितीय से कुछ मीटर पूर्व हेलीकाप्टर लैंडिंग के लिए स्थल चिह्नित कर लिया है। 15 जून को सुबह नैनीसैनी से आईटीबीपी की अतिरिक्त टीम को नंदा देवी बेस कैंप छोड़ा जाएगा। इसके बाद उपकरण और अन्य सामग्री भी नंदा देवी बेस कैंप तक पहुंचाई जाएगी। बैठक में आईटीबीपी के सेनानी सुनील कुमार और अन्य अधिकारी उपस्थित थे।
Loading...
error: Content is protected !!
http://newsindialive.in/ Digital marketting agency/