Breaking News

शिया वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष ने प्रियंका गांधी को दिया इस फिल्म में काम करने का ऑफर

चुनावी मौसम में बयानबाजी का दौर न चले ऐसा तो कभी हो ही नहीं सकता, हर चुनाव से पहले राजनीतिक पार्टियों से जुड़े लोग एक दूसरे पर उंगली उठाने का एक भी मौका नहीं छोड़ते है. हर कोई सिर्फ दूसरे को नीचे गिराने में लगा रहता है. केंद्र में मौजूद मोदी सरकार हो या विपक्ष, दोनों ही एक दूसरे की कड़ी निंदा करते रहते हैं. तो वहीं जब से कांग्रेस ने पूर्वी यूपी की कमान प्रियंका गांधी वाड्रा के हाथों में थमाई है तब से जिसे देखों वो प्रियंका गांधी पर विवादित बयान देता नजर आ रहा है. इसी दौड़ में लोकसभा चुनाव से ठीक पहले एक और नए शिया वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष वसीम रिजवी शामिल हो गए हैं, जिन्होंने कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी को लेकर एक विवादित बयान दिया है.

आपको बता दें कि रिजवी ने प्रियंका गांधी पर निशाना साधते हुए गांधी परिवार को मुस्लिम बताया है रिजवी ने एक तीर से दो निशाने साधने की कोशिश की है. कांग्रेस पार्टी हिंदू मुस्लिम दोनों में कोई भेद न करने की बात करती है. इसलिए बीजेपी भी हमेशा कांग्रेस को मुस्लिम पार्टी कह तंज कसती रहती है. रिजवी के इस बयान ने सियासी माहौल को और गरमा दिया है चुनावी माहौल को रिजवी ने अपने विवादित बयान से सरगर्मी बढ़ा दी है.

रिजवी ने प्रियंका गांधी के राजनीति में आने पर ताना कसते हुए कहा कि “प्रियंका गांधी वाड्रा खुबसूरत है, उन्हें राजनीति में आने की क्या जरूरत थी अगर वो मेरे पास आती तो मैं उन्हें अपनी फिल्म में हिरोइन बना देता.” वसीम ने कहा कि अगर वो मार्किट में जल्दी आ जाती तो वो उन्हें अपनी फिल्म रामजन्मभूमि पर जफर की बहु का रोल दिलवा देते, क्योंकि वो सुंदर है और हिरोईन बनने लायक भी है. रिजवी अगर इतने में ही रूक जाते तो भी गनिमत थी. उन्होंने देश की पहली महिला प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के परिवार को मुसलिम तक करार कर दिया है.

गौरतलब है, रिजवी ने कहा कि उनकी नजर प्रियंका एक सुंदर लेडी है और सुन्दरता की तारीफ करना कोई बुरी बात नहीं है. इसी के साथ उन्होंने कहा कि जब वो अपनी फिल्म के लिए एक मुस्लिम लड़की तलाश कर रहे थे उस टॉइम अगर प्रियंका गांधी मार्किट में आ जाती तो वो उन्हें उस रोल  के लिए ले लेते. क्योंकि राहुल और प्रियंका गांधी दोनों मुसलमान है.

कांग्रेस के बाद रिजवी ने अपनी फिल्म राम जन्म भूमि के बहाने समाजवादी पार्टी पर भी निशाना साधा. रिजवी ने कहा कि “मुस्लिमों का रहनुमा बनने के लिए मुलायम सिंह यादव ने कार सेवकों पर गोली चलवाई है. समाजवादी पार्टी और कांग्रेस दोनों ही इस बार के चुनाव में मोदी लहर को देश से निकालने की जंग लड़ रहे है.”

तो वहीं वसीम रिजवी के इस विवादित टिप्पणी से कांग्रेस में आक्रोस है, गुस्से के चलते कांग्रेस महासचिव शरद शुक्ल ने वसीम के खिलाफ पुलिस स्टेशन में तहरीर दी हैं. कांग्रेस रिजवी के इस बयान के लिए उस पर प्रशानिक कार्रवाई करने के बारे में सोच रही है.