BollywoodEntertainment

बॉलीवुड के नम्बर वन एक्टर बनने के बाद भी रणवीर को आज तक है इस बात का दुख

851 Views

रणवीर सिंह लकी थे जो उनको यशराज जैसे बड़े प्रोडक्शन हाउस के जरिए बॉलीवुड में एंट्री करने का मौका मिला था। वैसे तो ऐसे कई एक्टर्स हैं जिन्हें डेब्यू करने के लिए बड़ी फिल्में मिली हैं लेकिन सच यही है कि फिल्मी दुनिया में सर्वाइव वही कर पाया, जिसमें टैलेंट था। बिल्कुल ऐसा ही रणवीर के साथ हुआ। उन्होंने हर फिल्म में बेहतरीन परफॉर्मेंस दी, फिर चाहे वो कैरेक्टर हिस्टॉरिकल हो या स्ट्रीट ब्वाॅय का, लेकिन जब उन्होंने फिल्मी दुनिया में एंट्री की थी, तब उन पर यशराज को पैसे देने का इल्जाम लगा था।

क्या दी थी यशराज को ‘घूस’?
रीसेंटली एक इंटरव्यू में रणवीर ने वो बात कही जिसे लेकर उन्हें आज तक दुख है। दरअसल, कई साल पहले ये र्यूमर्स थे कि बॉलीवुड में आने के लिए रणवीर के पिता ने यशराज के हेड आदित्य चोपड़ा को अच्छी-खासी रकम दी थी। जब रणवीर को फिल्म ‘बैंड बाजा बारात’ मिली थी, तब इस तरह की अफवाहें थीं कि रणवीर ने फिल्म में रोल पाने के लिए पैसे दिए हैं। लेकिन रणवीर ने इस बात से साफ इनकार किया है।

Loading...

झूठे हैं इल्जाम 
रणवीर से जब इस र्यूमर के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, ‘ये खबर पूरी तरह से झूठी है और मुझ पर इसका बहुत बुरा असर हुआ है। कहा गया था कि मेरे पापा ने आदित्य चोपड़ा को 10 लाख रुपए दिए थे, मुझे लॉन्च करने के लिए लेकिन ये बात सुनकर मुझे सिर्फ दुख ही हुआ है। इस बात ने तो मेरी पूरी की पूरी परवरिश पर ही सवाल उठा दिए। मुझे लगता है कि कोई कैसे इतना गलत लिख सकता है जो मैंने कभी कहा ही नहीं। मैंने जेनुइनली काम को लेकर बहुत स्ट्रगल किया है।

Loading...

ऐसा कहते हैं लोग
रणवीर ने इस बारे में आगे बताते हुए कहा कि इस खबर का उनके बाद आने वाले यंग एक्टर्स पर बड़ा ही खराब असर हुआ है और लोग इसे लेकर उनसे ऊट-पटांग सवाल भी करते हैं। रणवीर ने बताया कि यंग एक्टर्स उन्हें मेसेज करके कहते हैं, ‘ए भाई, मैं भी बहुत पैसे दे सकता हूं, बताओ मुझे क्या करना होगाs और मैं कहता हूं कि ये सब झूठ है, इन पर विश्वास करना बंद करो।’ रणवीर का कहना है कि यूं तो ये बात उन्हें बहुत खलती है लेकिन वह अपने करियर अचीवमेंट्स से ये प्रूव कर चुके हैं कि आज वह जिस मुकाम पर हैं, वो उन्होंने पैसों से नहीं बल्कि अपनी मेहनत से अचीव किया है।

Loading...

Related Articles

error: Content is protected !!
Close