Breaking News

नौसेना के 3 जहाज रूस ने किया जब्त, संयुक्त राष्ट्र ने बुलाई आपात बैठक

3 Views
खबर आ रही है कि रूस ने यूक्रेन के तीन नौसैनिक जहाजों पर हमला करके उन्‍हें अपने कब्‍जे में ले लिया है। ऐसा बताया जा रहा है कि इसके चलते क्रीमियाई प्रायद्वीप में रूस और यूक्रेन के बीच तनाव बढ़ गया है। सूत्रों की माने तो इस बीच दोनों मुल्‍कों के बीच एक-दूसरे पर आराेप-प्रत्‍यारोप का दौर जारी है। 
इतना ही नहीं बल्कि यूक्रेन में डिफ़ेंस काउंसिल की बैठकों का दौर जारी है। खबरों की माने तो यूरोपीय संघ ने अपनी प्रतिक्रिया देते हुए रूस से कहा कि यूक्रेन को कर्च से अज़ोव सागर में अपने हिस्से में जाने से न रोका जाए। नाटो ने भी इस मामले में यूक्रेन का समर्थन किया है।
वही दूसरी ओर रूस का ये दावा है कि यूक्रेन के जहाज अजोव सागर में गैरकानूनी ढंग से उसकी जल सीमा प्रवेश किए हैं। साथ ही रूस का यह भी कहना है कि यूक्रेनी नौकाएं काला सागर पर ओडेसा से अज़ोव सागर में मारिपोल के लिए अपना रास्ता बना रही थीं। इसके बाद रूस ने कर्च में तंग जलमार्ग पर एक पुल के नीचे टैंकर तैनात करके आज़ोव सागर की ओर जाने वाला रास्ता बंद कर दिया। रूसी सेनाओं ने यूक्रेनी नौसेना के बोट और दो तोपखाने जहाजों को जब्त कर लिया है।
खबरों की माने तो इस बीच यूक्रेन के राष्ट्रपति पेट्रो पोरोशेंको ने रूस के इस कदम की निंदा की है। मिली जानकारी के अनुसार यूक्रेन की राष्ट्रीय सुरक्षा और रक्षा परिषद की बैठक में रूस की कार्रवाई की भर्त्‍सना करते हुए पेट्रो ने कहा है कि रूस का यह कदम उचित नहीं है। यह एक सनक भरा क़दम है। इस बारे में यूक्रेन का कहना है कि रूस की नौसेना ने यूक्रेन की नौकाओं का पीछा किया और फिर उन्हें अपने क़ब्ज़े में ले लिया। इस घटना में क्रू के छह सदस्य घायल हुए हैं। इस बाबत यूक्रेन में वॉर कैबिनेट की ज़रूरी बैठक बुलाई गई है। यूक्रेन की संसद मार्शल लॉ लगाने के एेलान पर पर आज वोटिंग कर सकती है।
क्या है दोनों देशों के बीच विवाद?
बताना चाहेंगे कि रूस और यूक्रेन के बीच समुद्री सीमा को लेकर यह विवाद कोई नया नहीं है। आपको बता दे कुछ समय पहले यूक्रेन ने अपने क्षेत्र से रूस के कब्जे वाले क्रीमिया की एक नाव को पकड़ा था। दरअसल मॉस्को ने इसके बाद ही यूक्रेन पर कड़ा रुख दिखाते हुए इस क्षेत्र से गुजरने वाले जहाजों पर निगरानी बढ़ा दी। अजोव सागर रूस के कब्जे वाले पूर्वी क्रीमिया और यूक्रेन के दक्षिणी इलाके में स्थित है। 2003 के एक समझौते के मुताबिक, दोनों ही देश किर्च खाड़ी पर मौजूद समुद्र का साझा रूप से इस्तेमाल कर सकते हैं। यहां मौजूद दो बंदरगाह बरदयान्सक और मारिउपोल खाद्य सामग्री, स्टील और कोयले के आयात और निर्यात के लिए अहम हैं।
Tags

Related Articles

error: Content is protected !!
Close