Breaking News

शशि थरूर के विवादित बयान के लिए राहुल गांधी को मांगनी चाहिए माफ़ी- बीजेपी नेता

14 Views
रायपुर। केन्द्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने रविवार को प्रधानमंत्री और शिव लिंग पर कांग्रेस नेता शशि थरूर के विवादित बयान पर कहा कि ये बयान पार्टी की मानसिकता को दर्शाता है जोकि 1984 में इलेक्शन के दौरान पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी द्वारा विपक्षी दल को ‘बिच्छू’ कहे जाने से साफ़ हो गई थी।
 उन्होंने कांग्रेस पर अप्रत्यक्ष रूप से माओवादियों का समर्थन करने का आरोप लगाते हुए कहा कि केन्द्र और छत्तीसगढ़ की भाजपा सरकार आने वाले कुछ वर्षों में नक्सलवाद की समस्या को खत्म करने के लिए प्रतिबद्ध है।
इस संबंध में टिप्पणी के लिए कांग्रेस पार्टी का कोई नेता मौजूद नहीं हो सका। संवाददाता सम्मेलन में प्रकाश जावड़ेकर ने कहा, ‘जब छत्तीसगढ़ का गठन हुआ राज्य में कांग्रेस सत्ता में थी। नक्सलवाद अपने चरम पर था। नक्सलवादियों के नियंत्रण वाला क्षेत्र पहले के मुकाबले घटकर एक तिहाई रह गया है।
’जावड़ेकर ने शनिवार को शशि थरूर द्वारा दिए गए विवादित बयान की आलोचना की जिसमें थरूर ने दावा किया था कि RSS के एक सूत्र ने किसी पत्रकार से कहा, ‘पीएम नरेन्द्र मोदी शिव लिंग पर बैठे उस बिच्छू की तरह हैं जिन्हें न तो हाथ से हटाया जा सकता है और न ही चप्पल से मारा जा सकता है।’
इस टिप्पणी के बारे में सवाल करने पर जावड़ेकर ने कहा, ‘‘कांग्रेस कयास लगा रही है कि राजनीतिक स्तर पर मोदी का मुकाबला कैसे किया जाये, इसी वजह से सरकार अपमान करने पर उतर आयी है। राहुल बाबा हर रोज़ अपमान करते हैं। लोग वही करेंगे जो उन्हें आता है। शशि थरूर थोड़े सभ्य हैं लेकिन वह भी बिच्छू वाली टिप्पणी पर आ गए हैं।’ उन्होंने कहा, ‘1984 में कांग्रेस का विज्ञापन था। राजीव गांधी 1984 के चुनावों में विपक्ष को बिच्छू कहने वाला विज्ञापन लेकर आए थे। यह कांग्रेस की मानसिकता को दर्शाता है।’

शशि थरूर का विवादित बयान

शशि थरूर रविवार को बेंगरलुरु में आयोजित लिटरेचर समारोह में शामिल हुए। वहां उन्होंने अपने संबोधन में कि RSS के लिए पीएम नरेंद्र मोदी शिवलिंग पर बैठे बिच्छू की तरह हैं। जिसको न तो हाथ से हटाया जा सकता है और न ही चप्पल से मारा जा सकता है। अगर हाथ से हटाने की कोशिश करेंगे तो बुरी तरह से काट लेगा। हालांकि, इस दावे को लेकर कांग्रेस नेता रविवार को एक नये विवाद में फंस गये। फेस्टिवल में दिये गये बयान की केन्द्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद समेत कई नेताओं ने निंदा की है। सांसद ने ट्वीट करते हुए कहा कि उनके द्वारा यह बयान नहीं दिया गया है बल्कि यह छह साल पहले से सार्वजनिक क्षेत्र में है।
भाजपा के वरिष्ठ नेता प्रसाद ने इस बयान की निंदा करते हुए आरोप लगाया कि थरूर ने भगवान शिव का अपमान किया है और उनकी इस गलती के लिए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को माफी मांगनी चाहिए।
कांग्रेस नेता ने कहा कि यह रिश्ते की एक बेहद स्पष्ट समझ पेश करता है। उन्होंने कहा, ‘क्योंकि आप अपने हाथ से बिच्छू को हटाते हैं, तो वह आपको बुरी तरह से डंक मार मारेगा। यदि आप चप्पल शिवलिंग पर मारते हैं, तो आप आस्था के सभी पवित्र सिद्धांतों को कमजोर कर देंगे।’ प्रसाद ने इन बयानों के लिए थरूर पर निशाना साधा और राहुल गांधी से पूछा कि क्या वह अपनी पार्टी के नेता के बयान का समर्थन करते है।
उन्होंने दिल्ली में पत्रकारों से भी कहा, ‘कांग्रेस महात्मा गांधी, जवाहरलाल नेहरू और इंदिरा गांधी की विरासत का प्रतिनिधित्व करने का दावा करती है। आज राहुल गांधी की अध्यक्षता में वह अपशब्द कहने और बहस के निम्नतम स्तर पर चली गई है।
’उन्होंने कहा कि हालांकि वह थरूर के बयान पर प्रतिक्रिया व्यक्त नहीं करना चाहेंगे, लेकिन वह शिवभक्त होने का दावा करने वाले राहुल गांधी से इस मुद्दे पर उनका रूख जानना चाहेंगे
Tags

Related Articles

error: Content is protected !!
Close