Breaking News

भारत में लड़कियां शादी और सेक्स के बिना बन रही हैं माँ, ‘वर्जिन बर्थ’ से मचा तहलका…

माँ बनने का अहसास बिलकुल ही अलग होता हैं, सारी खुशियों को अगर एक तरफ रखा जाए फिर भी माँ बनने की ख़ुशी को पूरा नहीं किया जा सकता हैं । कुछ शारीरिक प्रोब्लेम्स की वजह से बहुत सी महिलाएं माँ नहीं बन पाती हैं । पहले उन्हें माँ बनने की ख़ुशी से वंचित रहना पड़ता था । लेकिन अब ऐसा वक़्त ख़तम होने वाला हैं । बच्चे करने के लिए लड़की का शादीशुदा होना जरुरी होता था, ताकि वो अपने पति के साथ शरीरिकसंबंद बना कर के बच्चे को जन्म दे सके । 
लेकिन अब ये सब जरूरी नहीं रह गया जबसे भारत में ‘वर्जिन बर्थ’ ने सनसनी मचाई हुई हैं । ये उन महिलाओ के लिए किसी अमृत से काम नहीं जो माँ बनने में सक्षम नहीं थी । आइए जानते है कि आखिर में ये ‘वर्जिन बर्थ’ हैं क्या चीज़ और से कैसे इस्तेमाल या अपनाया जाता हैं । तो विस्तृत रूप से जानकारी के लिए पढ़ते हैं इसके बारे में …

* क्या है पूरा प्रोसेस

भारत में माँ बनने के इस नए तरीके को ‘वर्जिन बर्थ’ नाम दिया गया हैं माँ बनने में सक्षम नहीं है तो उसको इस इस प्रक्रिया को जरूर ध्यान से पढ़ना चाहिए । वर्जिन बर्थ द्वारा माँ बनने के प्रोसेस में IVF तकनीक का प्रयोग होता हैं, IVF प्रोसेस के तहत महिलाओं के बच्चेदानी से अंडों के निकालने के बाद उनमें किसी पुरुष का स्पर्म या वीर्य डालकर भ्रूण बनाया जाता है. इन भ्रूणों को 3 से 5 दिनों तक परखनली में बड़ा करके इन्हें वापस महिलाओं के गर्भाशय में डाला जाता है।

* एक से अधिक डाला जाता है भ्रूण

अगर सूत्रों कि माने तो अमेरिका में 25 -35 साल कि महिलाएं इस तकनीक को तेज़ी से अपना रही हैं , जो भी महिला शारीरिक तौर पर माँ बनने में सक्षम नहीं हैं वो इसे अपना कर अपना सूनी गोद में रौनक ला रही हैं। अमेरिका में बहुत सी महिलये इस तरफ तेज़ी से बढ़ रही हैं , डॉक्टर्स का कहना है कि जो महिलाएं प्राकृतिक रूप से गर्भधारण नहीं कर पाती हैं, उनके गर्भ में एक से अधिक भ्रूण डाले जाते हैं क्योंकि गर्भ भ्रूण को ठीक तरह से संभाल नहीं पाता. इसलिए समाधान के तौर पर एक से अधिक भ्रूण डाले जाते हैं ताकि उनमें से कम से कम एक पूरी तरह विकास कर सके। इन सब चीज़ो के लिए महिला लो शारीरिक तौर पे मज़बूत तो होना ही चाहिए बल्कि मानसिक तरुर पे उनका इतना ही मज़बूत होना जर्रूरी होता हैं ।

* कितना आएगा खर्च

IVF की प्रक्रिया करवाना आम आदमी के लिए शायद इतना आसान नहीं हैं क्युकी इस प्रक्रिया में लगभग ढाई – लाख से पांच लाख तक का खर्चा आ सकता हैं , खर्चा पूरा तरीके से मरीज कि स्थिति को देखकर ही बताया जा सकता हैं डॉक्टर्स पहले महिला के शरीर के निरक्षण करते हैं फिर उसके बाद जरुरी तथ्यों पे धायण देते हुए इस प्रक्रिया का संचालन करते हैं , गर्भ में एक से ज्यादा भ्रूण डाले जाते हैं क्युकी पहले देखा गया है कि जब एक भ्रूण डाला जाता था तब वह भ्रूण नष्ट हो जाता था इसलिए अब कई सारे भ्रूण डाले जाते हैं ताकि ुमे से एक भ्रूण तो सलामत बचा ही रहेगा , कई बार ये भी देखा गया हैं कि गर्भ में एक से ज्यादा भ्रूण विकसित होने लगते हैं ऐसे में बच्चा जब पैदा होता है तब वह काफी कमज़ोर या किसी बीमारी से जूझता हुआ पैदा होता हैं , कई बार तो उसकी मौत भी हो जाते हैं जिसके बाद डॉक्टर्स ने इसका एक ही हल निकाला हैं कि गर्भ में एक ही भ्रूण डाला जाये ।
एक रिसर्च के अनुसार जो महिलाये शादीशुदा नहीं है…
एक रिसर्च के अनुसार जो महिलाये शादीशुदा नहीं है वो ही इस तकनीक को अपनाती हैं क्युकी वो दुसरी लड़कियों के मुकाबले मानसिक व् शारीरिक तौर पे ज्यादा मज़बूत होती हैं । अमेरिका में तो लगभग हर 200 महिला में से एक महिला इस तकनीक का प्रयोग करती हैं ।और 31 प्रतिशत महिलाये इस तकनीक को सर्फ इसलिए अपनाती हैं ताकि उनका शरीर स्वच्छ रहे और पवित्रता बनी रहे ।
error: Content is protected !!
%d bloggers like this:
http://newsindialive.in/ Digital marketting agency/