Breaking News

कैराना में हार के बाद बीजेपी के दो विधायकों ने योगी को ठहराया जिम्मेदार, पूरे कुनबे मचा हड़कंप

लखनऊ: उत्‍तर प्रदेश के अति-महत्‍वपूर्ण कैराना लोकसभा सीट पर उपचुनाव में विपक्ष की एकता भाजपा पर भारी पड़ी. गुरुवार (31 मई) को मतगणना में राष्‍ट्रीय लोक दल की उम्‍मीदवार तबस्‍सुम हसन ने जीत दर्ज की. कैराना लोकसभा सीट पर हुए उपचुनाव में आरएलडी की तबस्सुम हसन को 4,81,182 वोट मिले हैं, जबकि बीजेपी की मृगांका सिंह की झोली में महज 4,36,564 वोट आए. ऐसे में उन्होंने 44,618 वोटों से जीत हासिल की है. तबस्सुम इस जीत के साथ यूपी में साल 2014 के बाद पहली मुस्लिम सांसद बन गई हैं.
तबस्‍सुम को विपक्षी दलों (सपा, बसपा और कांग्रेस) का समर्थन प्राप्‍त है. भाजपा ने इस सीट से सांसद रहे हुकुम सिंह की बेटी मृगांका सिंह को मैदान में उतारा था, मगर वह तबस्‍सुम को नहीं हरा सकीं.
बीजेपी की इस हार के बाद विपक्ष जश्न मना रहा है, लेकिन बीजेपी में हड़कंप मचा हुआ है. कैराना की हार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यानथ की हार के तौर पर देखा जा रहा है. उपचुनाव में हार के बाद बीजेपी विधायक श्यामप्रकाश और सुरेंद्र सिंह ने अपनी ही पार्टी के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है.
गोपामऊ से विधायक श्यामप्रकाश ने कविता लिखकर कहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नाम पर वोट तो मिले हैं, लेकिन जनता का काम नहीं किया. विधायक श्यामप्रकाश ने कहा कि पहले गोरखपुर फिर फूलपुर और अब नूरपुर में बीजेपी की हार का उन्हें दुख है.
श्यामप्रकाश ने लिखी ये कविता
मोदी नाम से पा गए राज।
कर न सके जनता मन काज।।
संघ,संगठन हाथ लगाम।
मुख्यमत्री भी असहाय।।
जनता और विधायक त्रस्त।
अधिकारी,अध्यक्ष भी भ्रष्ट।।
उतर गई पटरी से रेल।
फेल हुआ, अधिकारी राज।।
समझदार को है ये इशारा।
आगे है अधिकार तुम्हारा।।
बीजेपी विधायक सुरेंद्र सिंह ने भी उठाए सरकार पर सवाल
सिर्फ विधायक श्यामप्रकाश ने ही नहीं बल्कि बलिया में बीजेपी विधायक सुरेंद्र सिंह ने भी उपचुनाव में बीजेपी की हार पर सवाल उठाए हैं. सुरेंद्र सिंह ने कहा है कि इस हार के पीछे शुद्ध रूप से कर्मचारियों और अधिकारियों में फैले भ्रष्टाचार और समाज को परेशान करने की नीय़त है.
Winning of in an erstwhile communally surcharged constituency of with a huge margin decimates the theory of communal polarisation once and for all! All and sundry should understand divisive politics will not work
पीएम के करीबी ज़फर सरेशवाला ने भी उठाए सवाल
उपचुनावों में बीजेपी की हार के बाद पीएम मोदी के करीबी समर्थक ज़फर सरेशवाला ने बिहार के पूर्व उप मुख्यमंत्री और लालू यादव के बेटे तेजस्वी यादव और कैराना की निर्वाचित सांसद तबस्सुम हसन को बधाई दी है और विपक्ष की एकजुटता की तारीफ की है. जफर सरेशवाला इतना तक कह गए कि सांप्रदायिक ध्रुवीकरण और बांटने की राजनीति अब काम नहीं करेगी.
ज़फर सरेशवाला ने ट्वीट कर लिखा, ‘’विभाजनकारी राजनीति काम नहीं करेगी. कैराना जैसे सांप्रदायिक तनाव वाले क्षेत्र से तबस्सुम हसन का बड़े अंतर से जीतना सांप्रदायिक ध्रुवीकरण के सिद्धांत को नकारता है. यह समझना चाहिए कि विभाजनकारी राजनीति काम नहीं करेगी.”
error: Content is protected !!
%d bloggers like this:
http://newsindialive.in/ Digital marketting agency/