Breaking News

बाबा सच्चिदानंद पर लगा रेप का आरोप, बस्ती पुलिस ने नहीं की कोई कार्रवाई

लखनऊ। सत्संग और ज्ञान बांटने वाले बस्ती के बाबा सच्चिदानंद उर्फ  दयानंद पर रेप का आरोप लगाने वाली तीन युवतियां शुक्रवार को डीजीपी से मिलने पहुंची। लड़कियों का आरोप है कि बाबा ने बंधक बनाकर उनके साथ बलात्कार किया। आरोप है कि बस्ती में मुकदमा लिखने के बावजूद बाबा के खिलाफ  पुलिस ने कोई कार्यवाही नहीं की। पीडि़ताओं नेरासुका के बाद भी पुलिस पर कार्रवाई न करने का आरोप लगाया है।
बाबा सच्चिदानंद उर्फ  दयानंद के बारे में आरोप लगाते हुए कहा कि बाबा उसे छत्तीसगढ़ से बस्ती स्थित संत कुटीर आश्रम ले आये। यहां उसे पूजा पाठ और धर्म प्रचार के लिये साध्वी के रूप में रखने का भरोसा दिया था, लेकिन बस्ती आने के चार माह बाद बाबा ने उसका यौन शोषण किया। इस कार्य में बाबा की चार महिला सहयोगियों ने उनकी मदद की और बाबा के कमरे में बंद कर दिया। विरोध करने पर मारा पीटा और जान से मारने की धमकी भी दी।

युवतियों ने किया खुलासा 

वर्ष 2009 से बाबा उसे कई आश्रमों नवादा बिहार, मुंबई, अमरोहा, दिल्ली आश्रम में उसका यौन शोषण किया और उन्हे बंधक बनाये रखा। तीसरी युवती भी छत्तीसगढ़ की है। उसने भी बाबा सच्चिदानंद पर यौन शोषण का आरोप लगाया है। उसने इस कार्य में आश्रम में रहने वाली चार महिलाओं पर भी यौनशोषण में बाबा का सहयोग करने कर आरोप लगाया है। पुलिस तहरीर के आधार पर मुकदमा दर्ज कर चुकी है। बाबा और उनके चेलों पर कई धाराओं में मुकदमा दर्ज किया है। सच्चिदानन्द उर्फ  दयानन्द उर्फ  भग्तानन्द उर्फ  प्रशान्त कुमार उर्फ  संतकुमार, कमलाबाई उर्फ प्रियंका श्रीवास्तव, प्रमिलाबाई उर्फ  पारूल गोयल के खिलाफ धारा 376डी, 342, 323, 506 दूसरा धारा 376, 342,120बी, 323, 34 धाराओं में मुकदमा दर्ज है।

बाबा के  चेले भी आए पुलिस के राडार पर

इस समय बस्ती का संतकुटीर आश्रम यौन शोषण के मामले में सुर्खियों में हैं। बाबा स्वामी सच्चिदानंद समेत 4 महंतों पर आश्रम की साध्वियों के साथ गैंगरेप करने का मामला सामने आया है। कोतवाली थाना क्षेत्र के बड़े वन चौराहे के पास सत्यलोक आश्रम रिलीजियस ट्रस्ट का एक आश्रम संचालित होता है। इसके महंत बाबा सच्चिदानंद उर्फ  दयानंद हैं। इस ट्रस्ट की देश भर मे शाखायें है। बाबा सच्चिदानंद घूम-घूमकर सत्संग करते हैं। मगर सत्संग की आड़ में उनके काले कारनामों को उनके ही आश्रम की चार भक्तों ने उजागर कर दिया।

साध्वियों को दिया जाता था इतना कष्ट

पीडि़त लड़कियों को कुछ दिनों बाद बाबा की असलियत पता चली। कैसे बाबा सत्संग की आड़ में लड़कियों का यौन शोषण का रहा है। पीडि़त लड़कियों ने आरोप लगाया कि अगर वे विरोध करती तो उनके साथ मारपीट की जाती। आश्रम के अंदर ही कमरे में कई दिनों तक भूखे रखा जाता था। बाबा के चंगुल से किसी तरह बचकर लड़कियां बाहर आई और तब मामला पुलिस के पास पहुंचा। बहरहाल शिकायत मिलते ही कोतवाली पुलिस हरकत में आ गई और तत्काल आश्रम पर पहुंचकर जांच शुरू कर दी है।
error: Content is protected !!
%d bloggers like this:
http://newsindialive.in/ Digital marketting agency/