Breaking News

डिप्रैशन से लेकर हार्ट डिसीज तक, शरीर की कई तकलीफें दूर करती है ये थेरेपी

बिजी शेड्यूल के कारण आज  के समय में किसी के पास खुद के लिए भी समय नहीं हैं। इसी कारण आप अपनी सेहत पर भी ध्यान नहीं दे पाते और तनाव, डिप्रैशन, हार्ट डिसीज और डायबिटीज जैसी कई गंभीर बीमारियों का शिकार हो जाते हैं। वैसे तो इन बीमारियों से छुटकारा पाने के कई मॉर्डन तरीके हैं लेकिन आज हम आपको इसे दूर करने के लिए एक आयुर्वेदिक थेरेपी के बारे में बताने जा रहे हैं। दरअसल, भारत में आयुर्वेदिक का महत्‍व आज भी खत्‍म नहीं हुआ है। इस आयुर्वेदिक धारा थेरेपी के जरिए आप में तनाव, डिप्रैशन को कम करने के साथ शरीर की दूसरी समस्‍याओं से भी निजात पा सकते हैं। धारा थेरेपी को प्रॉब्लम के हिसाब से अलग तरीके और तेल के साथ किया जाता है। तो चलिए जानते हैं धारा थैरेपी के कुछ ऐसे हैल्थ बेनिफिट्स, जिससे आप शरीर की कई बीमारियों को दूर करने के साथ-साथ रिलैक्स भी फील कर सकते हैं।

1. शिरोधारा
यह डिप्रैशन और तनाव जैसी समस्याओं को दूर करने का एक प्राचीन तरीका है। इस थेरेपी द्वारा नर्वस सिस्टम पर अच्छा प्रभाव पड़ता है, जिससे तनाव और डिप्रैशन जैसी प्रॉब्लम दूर होती है। इसके अलावा यह कमजोर याददाश्त, चेहरे का लकवा, पुराना सिरदर्द, माइग्रेन, गहरी नींद न आना जैसी परेशानियों में भी बहुत फायदेमंद है। इससे मस्तिष्क की कार्यक्षमता में सुधार होकर रूसी, बाल झड़ना या जल्दी सफेद होना, सिर की त्वचा का संक्रमण आदि में आराम मिलता है। अगर आपको तनाव, एंजायटी, डिप्रेशन जैसी दिक्‍कतें हैं तो आप को यह थैरेपी जरूर करानी चाहिए।
PunjabKesari
इस थेरेपी को करने का तरीका
1. इस थेरेपी को देने के लिए ऐसी जगह चुनी जाती है, जोकि शांत, सामान्‍य तापमान वाली हो और जहां किसी तरह की कोई आवाज न हो।
2. थेरेपी के दौरान एक धारदार बर्तन में तेल डालकर उस तेल की धार को सिर पर डाला जाता है। यह धार लगभग 50 मिनट तक सिर पर डाली जाती है। इससे तेल सिर के हर उस हिस्‍से में पहुंच जाता है जहां समस्‍या हो।
3. इस तेल को भी शरीर की समस्या के अनुसार ही चुना जाता है। 40 से 42 डिग्री तक गर्म इस तेल की गर्म धार ब्‍लड सर्कुलेशन को तेज कर देती है।
2. तक्रधारा
तक्रधारा थेरेपी में तेल की बजाए बटरमिल्‍क का इस्तेमाल किया जाता है। जिन लोगों को हाइपरटेशन, सिरदर्द, हार्ट डिसीज, आंख और कान से जुड़ी तकलीफ होती हैं, उनके लिए यह थेरेपी बेस्ट है। इस थेरेपी में शरीर के जिस स्‍थान में तकलीफ होती है उस स्‍थान पर बटरमिल्‍क की धार से ट्रीटमेंट किया जाता है।
PunjabKesari
1. जिन लोगों को हाइपरटेंशन की प्रॉब्लम होती है उनके सिर पर बटरमिल्‍क से धार दी जाती है।
2. अगर आपको स्ट्रेस या तनाव से जुड़ी समस्या है तो आपकी फुल बॉडी बटरमिल्‍क बाथ दिया जाएगा।
3. जिन्हें शरीर के दूसरे हिस्‍सों जैसे अगर घुटनों, कमर में दिक्‍कत है तो उन्‍हें उसी जगह पर बटरमिल्‍क की धार दी जाती है। इसमें गुनगुने बटरमिल्‍क की धार को 4-5 इंच की उंचाई से गिराया जाता है।
3. क्षीर धारा
इस थेरेपी में मेडीकेटेड दूध और तेल का इस्‍तेमाल किया जाता है। इस थेरेपी को शिरोधारा की तरह ही दिया जाता है लेकिन इसमें तेल की प्रयोग नहीं होता। जिन महिलाओं को नींद न आने, सिरदर्द और शरीर में दर्द होने की समस्‍या होती है उनके लिए यह थेरेपी बेहद फायदेमंद होती है।
PunjabKesari
4. धन्यमलाधारा
यह ट्रीटमेंट स्‍पाइनल डिसऑर्डर, नयूरोलॉजिकल डिसऑर्डर, आर्थिराइटिस, अस्‍थमा, स्‍पॉन्डिलायटिस जैसी बीमारियों से जूझ रहे लोगों के लिए है। इस थेरेपी में आयुर्वेदिक तेल को गर्म करके इसे शरीर के कुछ अंगो पर मसाज दी जाती हैं। कुछ दिनो तक मसाज देने से यह सभी प्रॉब्लम दूर हो जाती है।
PunjabKesari
5. सर्वांगधारा
इस थेरेपी के दौरान पूरे शरीर को 6-7 लीटर गुनगुने तेल से नहलाया जाता है। उसके बाद पूरी बॉडी की मसाज की जाती है। इस थेरेपी से मस्‍क्‍युलर पेन, ज्‍वॉइंट स्टिफनेस, हार्मोनल इमबैलेंस जैसी समस्या हमेशा के लिए ठीक हो जाती हैं। अगर आपको कोई स्किन डिसीज है तो भी यह थेरेपी ट्रीटमेंट आपके लिए बेस्ट ऑप्शन है।
PunjabKesari
6. नेत्रधारा
अगर आपको आंखों से जुड़ी कोई समस्या है तो नेत्रधारा थेरेपी से आप उसे दूर कर  सकते हैं। क्योंकि यह थेरेपी आंखों के लिए होती है। आंखों की समस्या को दूर करने के लिए इस थेरेपी में त्रिफला बॉटर से आंखों को क्लीन जाता है। इसके बाद धारदार बर्तन से आंखों में त्रिफला वॉटर डाला जाता है।
PunjabKesari
error: Content is protected !!
%d bloggers like this:
http://newsindialive.in/ Digital marketting agency/