Breaking News

दुनिया की 5 सबसे खतरनाक खुफिया एजेंन्सी नम्बर एक अपने हर आॅपरेशन में रही है कामयाब

2 Views
किसी भी देश को अपनी सुरक्षा के लिए एक ऐसी एजेंन्सी की आवश्कता होती है. जो खुफिया तौर पर देश के लिए काम करें और दुश्मन देशों के गहरे राज़ और षड्यंत्र का पता लगाने में मद्द करें. खुफिया एजेंसी देश के आंतरिक और बाह्य दोनो मसलो पर काम करती है. खुफिया एजेंसी किसी भी देश की ताकत मानी जाती है. तो आइये जानते है दुनिया की 5 सबसे शक्तिशाली खुफिया एजेंसी के बारे में —
मोसाद, इज़राइल
मोसाद दुनिया की सबसे खतरनाक और शक्तिशाली खुफिया एजेंसी कही जाती है. इसके बारे में कहा जाता है की मोसाद का आज तक कोई भी आॅरेशन विफल नहीं हुआ है. इजराइल का दुनिया में प्रभुत्व होने के पीछे इसका बड़ा हाथ है. मोसाद का सबसे खतरनाक आॅपरेशन ‘एंतेब्बे रेस्क्यू’ माना जाता है. जिसमें मोसाद ने युगांडा में इजराइली बंदियों को छुड़ाने के लिए ये आॅरेशन किया था.
आईएसआई (इंटर-सर्विसेस इंटेलीजेंस), पाकिस्तान
दुनिया की सबसे शक्तिशाली खुफिया एजेंसीयो में से एक है आईएसआई. इसका गठन 1948 में हुआ था. आईएसआई अफगानिस्तान में सोवियत संघ को हराने में मदद करने के बाद अपना दम दिखा चुकी है. पाकिस्तान की सेना और सरकार दोनों ही इसके नीचे काम करते हैं.
सीआईए (सेंट्रल इंटेलीजेंस एजेंसी) अमेरिका
दुनिया के सुपरपावर देश की पॉवरफुल जांच एजेंन्सी सीआईए का गठन 1947 में हुआ. यह दुनियाभर में अमेरीका के लिए कई बड़े आॅपरेशन अंजाम दे चुकी है. हांलकी इसके कई बड़े आॅपरेशन विफल भी रहें है.
रॉ (रिसर्च एंड एनालिसिस विंग), भारत
भारत की यह खुफिया ए​जेंसी बाह्य मामलो पर कार्य करती है. रॉ का गठन 1986 में किया गया. बांग्लादेश के साथ लड़ाई के दौरान. पाकिस्तान और चीन की तमाम जानकारियों भारत को रॉ ही अवगत कराती है.
एमआई6 (मिलिट्री इंटेलीजेंस, सेक्शन 6), यूनाइटेड किंगडम
इसका गठन 1909 में हुआ था, यह दुनियाक की सबसे पुरानी जांच एजेंसी मानी जाती है. इस एजेंसी ने प्रथम विश्व युद्ध में अपनी सेवाएं दी थी. हिटलर को हराने में इसकी मुख्य भूमिका रही.
Tags

Related Articles

error: Content is protected !!
Close